Sunday, April 22, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

अब इन बैंकों के कार्ड के जरिए ही कर पाएंगे रेलवे के आॅनलाइन ट्रांजेक्शन, बाकी हुए बैन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब इन बैंकों के कार्ड के जरिए ही कर पाएंगे रेलवे के आॅनलाइन ट्रांजेक्शन, बाकी हुए बैन

नई दिल्ली। बैंकों और रेलवे के बीच की तल्खी काफी बढ़ गई है। सुविधा शुल्क को लेकर उपजे विवाद के बाद आईआरसीटीसी ने अब कई बैंकों के कार्ड को बैन कर दिया है। बैंकों का कहना है आईआरसीटीसी ने यह कदम इसलिए उठाया है कि वह पूरा सुविधा शुल्क खुद रखना चाहती है। अभी केवल इंडियन ओवरसीज बैंक, कैनरा बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, एच.डी.एफ.सी बैंक और एक्सिस बैंक के कार्ड के जरिए आईआरसीटीसी पर पेमेंट की जा सकती है। इसके अलावा किसी भी बैंक के डेबिट कार्ड से पेमेंट स्वीकार नहीं किया जाएगा। 

बैंक और रेलवे का मामला नहीं सुलझा

गौरतलब है कि इस साल की शुरुआत में आईआरसीटीसी ने बैंकों से कहा था कि आॅनलाइन टिकटों के ट्रांजेक्शन में आधा हिस्सा रेलवे को दिया जाए। मामले को रेलवे ने बातचीत के जरिए सुलझाने की कोशिश की लेकिन बात सुलझ नहीं पाई। यहां बता दें कि नोटबंदी के बाद आईआरसीटीसी ने सुविधा शुल्क 20 रुपये घटा दिया था। वर्तमान में बैंकों को 1000 रुपये तक के कार्ड ट्रांजेक्शन पर 0.25 फीसदी और 1000 से 2000 रुपये के ट्रांजेक्शन पर 0.5 फीसदी एमडीआर वसूलने की अनुमति है। ज्यादा रकम के ट्रांजेक्शन पर 1 फीसदी तक एमडीआर लगाया जाता है। ये दर नोटबंदी के दौरान रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा जारी किए गए अस्थाई दिशानिर्देश के आधार पर तय हैं।


ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में जलाशयों के निर्माण में हुई धांधली, सरकार ने दिए हफ्ते भर में रिपोर्ट देने के निर्देश

 

Todays Beets: