Sunday, July 22, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

अब इन बैंकों के कार्ड के जरिए ही कर पाएंगे रेलवे के आॅनलाइन ट्रांजेक्शन, बाकी हुए बैन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब इन बैंकों के कार्ड के जरिए ही कर पाएंगे रेलवे के आॅनलाइन ट्रांजेक्शन, बाकी हुए बैन

नई दिल्ली। बैंकों और रेलवे के बीच की तल्खी काफी बढ़ गई है। सुविधा शुल्क को लेकर उपजे विवाद के बाद आईआरसीटीसी ने अब कई बैंकों के कार्ड को बैन कर दिया है। बैंकों का कहना है आईआरसीटीसी ने यह कदम इसलिए उठाया है कि वह पूरा सुविधा शुल्क खुद रखना चाहती है। अभी केवल इंडियन ओवरसीज बैंक, कैनरा बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, एच.डी.एफ.सी बैंक और एक्सिस बैंक के कार्ड के जरिए आईआरसीटीसी पर पेमेंट की जा सकती है। इसके अलावा किसी भी बैंक के डेबिट कार्ड से पेमेंट स्वीकार नहीं किया जाएगा। 

बैंक और रेलवे का मामला नहीं सुलझा

गौरतलब है कि इस साल की शुरुआत में आईआरसीटीसी ने बैंकों से कहा था कि आॅनलाइन टिकटों के ट्रांजेक्शन में आधा हिस्सा रेलवे को दिया जाए। मामले को रेलवे ने बातचीत के जरिए सुलझाने की कोशिश की लेकिन बात सुलझ नहीं पाई। यहां बता दें कि नोटबंदी के बाद आईआरसीटीसी ने सुविधा शुल्क 20 रुपये घटा दिया था। वर्तमान में बैंकों को 1000 रुपये तक के कार्ड ट्रांजेक्शन पर 0.25 फीसदी और 1000 से 2000 रुपये के ट्रांजेक्शन पर 0.5 फीसदी एमडीआर वसूलने की अनुमति है। ज्यादा रकम के ट्रांजेक्शन पर 1 फीसदी तक एमडीआर लगाया जाता है। ये दर नोटबंदी के दौरान रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा जारी किए गए अस्थाई दिशानिर्देश के आधार पर तय हैं।


ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में जलाशयों के निर्माण में हुई धांधली, सरकार ने दिए हफ्ते भर में रिपोर्ट देने के निर्देश

 

Todays Beets: