Sunday, October 21, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

अब इन बैंकों के कार्ड के जरिए ही कर पाएंगे रेलवे के आॅनलाइन ट्रांजेक्शन, बाकी हुए बैन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब इन बैंकों के कार्ड के जरिए ही कर पाएंगे रेलवे के आॅनलाइन ट्रांजेक्शन, बाकी हुए बैन

नई दिल्ली। बैंकों और रेलवे के बीच की तल्खी काफी बढ़ गई है। सुविधा शुल्क को लेकर उपजे विवाद के बाद आईआरसीटीसी ने अब कई बैंकों के कार्ड को बैन कर दिया है। बैंकों का कहना है आईआरसीटीसी ने यह कदम इसलिए उठाया है कि वह पूरा सुविधा शुल्क खुद रखना चाहती है। अभी केवल इंडियन ओवरसीज बैंक, कैनरा बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, एच.डी.एफ.सी बैंक और एक्सिस बैंक के कार्ड के जरिए आईआरसीटीसी पर पेमेंट की जा सकती है। इसके अलावा किसी भी बैंक के डेबिट कार्ड से पेमेंट स्वीकार नहीं किया जाएगा। 

बैंक और रेलवे का मामला नहीं सुलझा

गौरतलब है कि इस साल की शुरुआत में आईआरसीटीसी ने बैंकों से कहा था कि आॅनलाइन टिकटों के ट्रांजेक्शन में आधा हिस्सा रेलवे को दिया जाए। मामले को रेलवे ने बातचीत के जरिए सुलझाने की कोशिश की लेकिन बात सुलझ नहीं पाई। यहां बता दें कि नोटबंदी के बाद आईआरसीटीसी ने सुविधा शुल्क 20 रुपये घटा दिया था। वर्तमान में बैंकों को 1000 रुपये तक के कार्ड ट्रांजेक्शन पर 0.25 फीसदी और 1000 से 2000 रुपये के ट्रांजेक्शन पर 0.5 फीसदी एमडीआर वसूलने की अनुमति है। ज्यादा रकम के ट्रांजेक्शन पर 1 फीसदी तक एमडीआर लगाया जाता है। ये दर नोटबंदी के दौरान रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा जारी किए गए अस्थाई दिशानिर्देश के आधार पर तय हैं।


ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में जलाशयों के निर्माण में हुई धांधली, सरकार ने दिए हफ्ते भर में रिपोर्ट देने के निर्देश

 

Todays Beets: