Monday, November 20, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

तीन तलाक की जंग जीतने वाली मुस्लिम महिलाओं को समाज से सुनने पड़ रहे हैं अपशब्द...

अंग्वाल संवाददाता
तीन तलाक की जंग जीतने वाली मुस्लिम महिलाओं को समाज से सुनने पड़ रहे हैं अपशब्द...

नई दिल्ली। तीन तलाक के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाली इशरत को जहां  एक ऐतिहासिक जीत हासिल हुई है। तो वहीं दूसरी ओर उन्हें सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद समाज और अपने रिश्तेदारों से ताने सुनने को मिल रहे हैं। उनके पड़ोसी उन्हें गंदी औरत और इस्लाम विरोधी बता रहे हैं। इशरत ने इस बात का जिक्र करते हुए कहा कि अब बस मुझ मैं और हिम्मत नहीं बच्ची है। मैं अपना समय अपनी बच्चियों के साथ बीताना चाहती हूं, लेकिन रिश्तेदारों व समाज के बयानों से मैं बहुत परेशान हूं। मर्दे मुझे इस्लाम विरोधी कह रहे हैं। इतना ही नहीं , इशरत का केस लड़ने वाली वकील  नाजिया इलाही खान को भी सोशल मीडिया पर उल्टे-सीटे बयान सुनने पड़ रहे हैं।

यह भी पढ़े- टिकट बुक कराने के साथ ही एयरपोर्ट के लिए बुक करा सकेंगे Ola- Uber कैब


आपको बता दें कि 2004 से इशरत पश्चिम बंगाल में हावड़ा के पास रहती हैं। इशरत जिस घर में रहती है वह उनके पति ने दहेज के पैसों से खरीदा था। उनके पति ने मुंबई से फोन पर उन्हें वर्ष 2014 में तलाक दे दिया था। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक के खिलाफ याचिका दर्ज की गई थी, जिसपर बीते दो दिन पहले सुप्रीम कोर्ट ने फेसले लेते हुए तीन तलाक को असवैंधानिक करार दिया है। साथ ही केंद्र सरकार को 6 माह के अंदर  नया कानून बनाने का आदेश दिया है। फैसला आने के बाद ही लोगों  की बयानबाजी लगातार जारी है।  

यह भी पढ़े- नासा आसमान में करेगा करिश्मा, बनाए जाएंगे चमकते कृत्रिम बादल 

Todays Beets: