Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

सबरीमाला के बाद अब कोलकाता में काली पूजा पंडालों में महिलाओं पर प्रतिबंध, जानें क्या है वजह

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सबरीमाला के बाद अब कोलकाता में काली पूजा पंडालों में महिलाओं पर प्रतिबंध, जानें क्या है वजह

कोलकाता। केरल की सबरीमाला मंदिर की तर्ज पर अब पश्चिम बंगाल में भी की काली पूजा आयोजन समिति के पंडाल में भी महिलाओं के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। बताया जा रहा है कि बुद्धिजीवियों के पिछले 34 सालों से विरोध के बावजूद यह परंपरा कायम है।  कोलकाता के दक्षिण में स्थित चेतला प्रदीप संघ पूजा समिति के आयोजकों ने बताया कि 34 साल पहले बीरभूम जिले के तारापीठ में स्थित शक्तिपीठ के पुजारियों ने इस पूजा की शुरुआत की थी। पूजा समिति की ओर से कहा गया था कि अगर महिलाओं को यहां प्रवेश दिया गया तो भारी विपत्ति आएगी।

गौरतलब है कि उसी समय से महिलाओं को यहां पंडाल में प्रवेश नहीं दिया जाता है। चेतला प्रदीप संघ पूजा समिति की ओर से सालों से इसका पालन किया जा रहा है। पूजा आयोजन समिति का कहना है कि महिलाएं भी इसकी सदस्य हैं लेकिन देवी के नाराज होने के डर से वे पंडालों मंे प्रवेश नहीं करती हैं। हालांकि मूर्ति लाने से लेकर विसर्जन में वे पुरुषों के साथ काम करती हैं।  


ये भी पढ़ें - आर्थिक प्रतिबंधों से तिलमिलाया ईरान, कहा-दादागिरी छोड़ अपने रवैये में बदलाव लाए अमेरिका 

यहां बता दें कि काली पूजा के आयोजन में सजावट से लेकर प्रसाद बनाने तक का काम पुरुष ही करते हैं। विशेषज्ञों और बुद्धिजीवियों का कहना कि आधुनिक दौर मंे भी यह पितृसत्तात्मक मानसिकता का परिचायक है। उनका मानना है कि महिलाओं को पंडाल में या मूर्ति के पास जाने से कोई नहीं रोक सकता है। 

Todays Beets: