Friday, November 16, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

सबरीमाला के बाद अब कोलकाता में काली पूजा पंडालों में महिलाओं पर प्रतिबंध, जानें क्या है वजह

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सबरीमाला के बाद अब कोलकाता में काली पूजा पंडालों में महिलाओं पर प्रतिबंध, जानें क्या है वजह

कोलकाता। केरल की सबरीमाला मंदिर की तर्ज पर अब पश्चिम बंगाल में भी की काली पूजा आयोजन समिति के पंडाल में भी महिलाओं के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। बताया जा रहा है कि बुद्धिजीवियों के पिछले 34 सालों से विरोध के बावजूद यह परंपरा कायम है।  कोलकाता के दक्षिण में स्थित चेतला प्रदीप संघ पूजा समिति के आयोजकों ने बताया कि 34 साल पहले बीरभूम जिले के तारापीठ में स्थित शक्तिपीठ के पुजारियों ने इस पूजा की शुरुआत की थी। पूजा समिति की ओर से कहा गया था कि अगर महिलाओं को यहां प्रवेश दिया गया तो भारी विपत्ति आएगी।

गौरतलब है कि उसी समय से महिलाओं को यहां पंडाल में प्रवेश नहीं दिया जाता है। चेतला प्रदीप संघ पूजा समिति की ओर से सालों से इसका पालन किया जा रहा है। पूजा आयोजन समिति का कहना है कि महिलाएं भी इसकी सदस्य हैं लेकिन देवी के नाराज होने के डर से वे पंडालों मंे प्रवेश नहीं करती हैं। हालांकि मूर्ति लाने से लेकर विसर्जन में वे पुरुषों के साथ काम करती हैं।  


ये भी पढ़ें - आर्थिक प्रतिबंधों से तिलमिलाया ईरान, कहा-दादागिरी छोड़ अपने रवैये में बदलाव लाए अमेरिका 

यहां बता दें कि काली पूजा के आयोजन में सजावट से लेकर प्रसाद बनाने तक का काम पुरुष ही करते हैं। विशेषज्ञों और बुद्धिजीवियों का कहना कि आधुनिक दौर मंे भी यह पितृसत्तात्मक मानसिकता का परिचायक है। उनका मानना है कि महिलाओं को पंडाल में या मूर्ति के पास जाने से कोई नहीं रोक सकता है। 

Todays Beets: