Friday, March 22, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

सबरीमाला के बाद अब कोलकाता में काली पूजा पंडालों में महिलाओं पर प्रतिबंध, जानें क्या है वजह

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सबरीमाला के बाद अब कोलकाता में काली पूजा पंडालों में महिलाओं पर प्रतिबंध, जानें क्या है वजह

कोलकाता। केरल की सबरीमाला मंदिर की तर्ज पर अब पश्चिम बंगाल में भी की काली पूजा आयोजन समिति के पंडाल में भी महिलाओं के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। बताया जा रहा है कि बुद्धिजीवियों के पिछले 34 सालों से विरोध के बावजूद यह परंपरा कायम है।  कोलकाता के दक्षिण में स्थित चेतला प्रदीप संघ पूजा समिति के आयोजकों ने बताया कि 34 साल पहले बीरभूम जिले के तारापीठ में स्थित शक्तिपीठ के पुजारियों ने इस पूजा की शुरुआत की थी। पूजा समिति की ओर से कहा गया था कि अगर महिलाओं को यहां प्रवेश दिया गया तो भारी विपत्ति आएगी।

गौरतलब है कि उसी समय से महिलाओं को यहां पंडाल में प्रवेश नहीं दिया जाता है। चेतला प्रदीप संघ पूजा समिति की ओर से सालों से इसका पालन किया जा रहा है। पूजा आयोजन समिति का कहना है कि महिलाएं भी इसकी सदस्य हैं लेकिन देवी के नाराज होने के डर से वे पंडालों मंे प्रवेश नहीं करती हैं। हालांकि मूर्ति लाने से लेकर विसर्जन में वे पुरुषों के साथ काम करती हैं।  


ये भी पढ़ें - आर्थिक प्रतिबंधों से तिलमिलाया ईरान, कहा-दादागिरी छोड़ अपने रवैये में बदलाव लाए अमेरिका 

यहां बता दें कि काली पूजा के आयोजन में सजावट से लेकर प्रसाद बनाने तक का काम पुरुष ही करते हैं। विशेषज्ञों और बुद्धिजीवियों का कहना कि आधुनिक दौर मंे भी यह पितृसत्तात्मक मानसिकता का परिचायक है। उनका मानना है कि महिलाओं को पंडाल में या मूर्ति के पास जाने से कोई नहीं रोक सकता है। 

Todays Beets: