Tuesday, October 16, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

योगी सरकार ने अखिलेश यादव द्वारा लिए गए फैसले का पलटा, 4 हजार उर्दू शिक्षकों की भर्ती निरस्त

अंग्वाल न्यूज डेस्क
योगी सरकार ने अखिलेश यादव द्वारा लिए गए फैसले का पलटा, 4 हजार उर्दू शिक्षकों की भर्ती निरस्त

लखनऊ। उत्तरप्रदेश की योगी सरकार ने समाजवादी पार्टी सरकार के एक और फैसले को पलट दिया है। जी हां, योगी सरकार ने 4 हजार उर्दू शिक्षकों की भर्ती को निरस्त कर दिया है। बताया जा रहा है कि प्राथमिक विद्यालयों में उर्दू विषय के छात्र नहीं होने की वजह से भर्ती को निरस्त किया गया है। बेसिक शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रभात कुमार ने बताया कि प्रदेश के प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में उर्दू विषय के करीब 87 हजार विद्यार्थी हैं जबकि उर्दू विषय के16 हजार से अधिक शिक्षक हैं।

गौरतलब है कि प्रदेश में शिक्षक और छात्र के अनुपात में भी काफी अंतर है। सरकार की ओर से कहा जा रहा है कि छात्रों की तुलना में उर्दू विषय के अध्यापक पहले ही अधिक हैं। विद्यालयों में उर्दू शिक्षकों की आवश्यकता नहीं होने के कारण 2016 में 4000 पदों के लिए निकाली गई शिक्षकों की भर्ती  निरस्त कर दी है।

ये भी पढ़ें - लोकसभा चुनाव से पहले ‘बाबा’ का भाजपा को झटका, किसी पार्टी को समर्थन नहीं देने का किया ऐलान 


यहां बता दें कि समाजवादी पार्टी के शासनकाल में 2016 में 4000 उर्दू शिक्षकों की भर्ती निकाली गई थी। इसके बाद भाजपा की सरकार बनने के बाद मार्च 2017 में उनकी काउंसलिंग भी की गई थी। 23 मार्च 2017 को ही योगी सरकार ने सहायक अध्यापक और उर्दू विषय के अध्यापकों की भर्ती प्रक्रिया पर रोक लगा दी। सरकार के द्वारा भर्ती प्रक्रिया शुरू नहीं करने से उर्दू के अभ्यर्थियों ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की।

गौर करने वाली बात है कि कोर्ट ने मामले की सुनवाई के बाद 15 अप्रैल 2018 को प्रदेश सरकार को 2 महीने के अंदर शिक्षकों की नियुक्ति के आदेश दिए गए थे। इसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होने से अभ्यर्थी इरशाद रब्बानी ने हाईकोर्ट में अवमानना याचिका दायर की है। इस पर सरकार को नोटिस दिया गया है। 

Todays Beets: