Saturday, February 16, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

गाड़ी की दोनों चाबियों के बिना नहीं मिलेगा बीमा क्लेम, कंपनियों ने उठाया यह कदम 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गाड़ी की दोनों चाबियों के बिना नहीं मिलेगा बीमा क्लेम, कंपनियों ने उठाया यह कदम 

नई दिल्ली। गाड़ियों की चोरी होने पर बीमा क्लेम की बढ़ती शिकायतों के बाद कई बीमा कंपनियों ने कड़ा कदम उठाया है। हालांकि बीमा नियामक प्राधिकरण (इरडा) ने इस तरह का कोई नियम नहीं बनाया है, लेकिन देश की कई प्रमुख बीमा कंपनियां इसको सख्ती से लागू किया है। बीमा कंपनियों के इस कदम के बाद अब अगर आपके पास गाड़ी की दोनों चाबियां नहीं मिलेंगी तो आपको क्लेम नहीं दिया जाएगा। 

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में कार चोरी होने पर फर्जी बीमा क्लेम लेने की शिकायतों में काफी इजाफा हो गया है। इसके बाद कंपनियों ने यह नियम लागू कर दिया है। बता दें कि गाड़ी चोरी का क्लेम लेने के लिए अब आपके पास गाड़ी की दोनों चाबियां मौजूद होनी चाहिए। इसके साथ ही गाड़ी के पूरे कागजात भी दुरुस्त होने चाहिए। 

ये भी पढ़ें - मोहम्मद शमी का भाई हुआ लापता, परिजनों ने जताया अपहरण का शक


यहां बता दें कि बीमा कंपनियां गाडी चोरी होने की स्थिति में आरसी होने के बावजूद अथाॅरिटी लेटर की मांग कर रही हैं ताकि गाड़ी मालिक की सही पहचान हो सके। अब बीमा क्लेम करने वाले लोगों की शिकायत है कि कंपनियां बीमा करने से पहले इन सभी बातों की जानकारी नहीं दे रही हैं जिसके चलते उन्हें आरटीओ और पुलिस थानों के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। 

 

Todays Beets: