Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

गाड़ी की दोनों चाबियों के बिना नहीं मिलेगा बीमा क्लेम, कंपनियों ने उठाया यह कदम 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गाड़ी की दोनों चाबियों के बिना नहीं मिलेगा बीमा क्लेम, कंपनियों ने उठाया यह कदम 

नई दिल्ली। गाड़ियों की चोरी होने पर बीमा क्लेम की बढ़ती शिकायतों के बाद कई बीमा कंपनियों ने कड़ा कदम उठाया है। हालांकि बीमा नियामक प्राधिकरण (इरडा) ने इस तरह का कोई नियम नहीं बनाया है, लेकिन देश की कई प्रमुख बीमा कंपनियां इसको सख्ती से लागू किया है। बीमा कंपनियों के इस कदम के बाद अब अगर आपके पास गाड़ी की दोनों चाबियां नहीं मिलेंगी तो आपको क्लेम नहीं दिया जाएगा। 

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में कार चोरी होने पर फर्जी बीमा क्लेम लेने की शिकायतों में काफी इजाफा हो गया है। इसके बाद कंपनियों ने यह नियम लागू कर दिया है। बता दें कि गाड़ी चोरी का क्लेम लेने के लिए अब आपके पास गाड़ी की दोनों चाबियां मौजूद होनी चाहिए। इसके साथ ही गाड़ी के पूरे कागजात भी दुरुस्त होने चाहिए। 

ये भी पढ़ें - मोहम्मद शमी का भाई हुआ लापता, परिजनों ने जताया अपहरण का शक


यहां बता दें कि बीमा कंपनियां गाडी चोरी होने की स्थिति में आरसी होने के बावजूद अथाॅरिटी लेटर की मांग कर रही हैं ताकि गाड़ी मालिक की सही पहचान हो सके। अब बीमा क्लेम करने वाले लोगों की शिकायत है कि कंपनियां बीमा करने से पहले इन सभी बातों की जानकारी नहीं दे रही हैं जिसके चलते उन्हें आरटीओ और पुलिस थानों के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। 

 

Todays Beets: