Saturday, February 23, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

पढ़ाई छोड़कर राष्ट्रमंडल खेलों को चुनने वाले स्वर्ण पदक विजेता अनीश अब देंगे अपने शेष 10वीं बोर्ड के तीन पेपर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पढ़ाई छोड़कर राष्ट्रमंडल खेलों को चुनने वाले स्वर्ण पदक विजेता अनीश अब देंगे अपने शेष 10वीं बोर्ड के तीन पेपर

नई दिल्ली । एक पुरानी कहावत थी कि पढ़ोगे लिखोगे बनोगे साहब...खेलोगे कूदोगे बनोगे खराब, लेकिन अब ये गुजरे जमाने की कहावत हो गई है। आज के युवाओं ने इस कहावत को नए मायने देते हुए खेलोगे कूदोगे तो भी बनोगे साहब... में बदल दिया है। इस नई कहावत को चर्रितार्थ किया है अपनी 10वीं की पढ़ाई छोड़कर ऑस्ट्रेलिया में हो रहे राष्ट्रमंडल खेलों में शिरकत करने वाले 15 साल के अनीश भानवाला ने । अनिश ने 21वें राष्ट्रमंडल खेलों की 25 मीटर रैपिड फायर पिस्टल प्रतियोगिता में नए रिकार्ड के साथ स्वर्ण पदक जीता है।

ये भी पढ़ें- राष्ट्रमंडल खेल 2018ः भारतीय खिलाड़ियों का दबदबा बरकरार, 50 मीटर राईफल थ्री पोजिशन में तेजस्विनी सावंत ने दिलाई स्वर्णिम सफलता, अनीष ने भी जीता सोना

ऐसा करने वाले वह देश के सबसे युवा खिलाड़ी बन गए हैं। लेकिन अपनी 10वीं की परीक्षा छोड़कर खेलों के लिए ऑस्ट्रेलिया जाने वाले अनीश को एक बार फिर से अपनी पढ़ाई पर ध्यान देना होगा क्योंकि खेलों के चलते उनके जो तीन पेपर (हिंदी, मेथमेटिक्स और सोशल साइंस) नहीं दे पाए, अब वह राष्ट्रमंडल खेलों के बाद 16, 17 और 18 अप्रैल को अपने ये पेपर देंगे। हालांकि शेष पेपर वह ऑस्ट्रेलिया जाने से पहले ही दे चुके थे। सीबीएसई ने विशेष तौर पर अनीश के लिए तीन पेपर राष्ट्रमंडल खेलों के बाद देने की व्यवस्था की है।

ये भी पढ़ें- सीबीएसई बोर्ड की 10वीं के प्रश्नपत्र लीक की गुत्थी सुलझी, डीएवी ऊना के शिक्षक ने ही दिया अंजाम


बता दें कि स्वर्ण पदक जीतकर अनीश ने 16 बरस की निशानेबाज मनु भाकर का रिकार्ड तोड़ा। हालांकि इस उपलब्धि को पाने के लिए अनीश को काफी कुछ पीछे भी छोड़ना पड़ा है। इस बार अनीश 10वीं कक्षा के छात्र हैं लेकिन खेलों के मद्देनजर अपनी परीक्षा और खेल में से एक को चुनना था। हालांकि इस मामले में सीबीएसई ने भी उन्हें राहत दी।

ये भी पढ़ें- CWG LIVE- स्वर्ण पदक विजेता राहुल अवारे पॉर्डियम पर हुए भावुक, राष्ट्रगान सुनकर खुशी में भर ग...

असल में अनीश के लिए उस समय मुश्किलें खड़ी हुईं, जब राष्ट्रमंडल खेलों से पहले नेशनल राइफल एसोसिएशन ने टीम की घोषणा की। वह 10वीं छात्र हैं. मार्च में वर्ल्ड चैंपियनशिप होनी थी। ऐसे में अगर वह इस प्रतियोगिता में भाग लेते तो अनके पेपर रह जाते। वह दुविधा में थे। अगर वह खेल को चुनते तो उनके तीन पेपर छूट जाते। हालांकि बाद में सीबीएसई ने एक ऐतिहासिक फैसला देते हुए उन्हें तीन पेपर राष्ट्रमंडल खेलों के बाद देने की अनुमति दे दी।

Todays Beets: