Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

CWG - 18 में स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा बोले - ओलंपिक में गोल्ड जीतना नया लक्ष्य, 90 मीटर की थ्रो पर रहेगी नजर

अंग्वाल संवाददाता
CWG - 18 में स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा बोले - ओलंपिक में गोल्ड जीतना नया लक्ष्य, 90 मीटर की थ्रो पर रहेगी नजर

 नई दिल्ली । ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट मे संपन्न हुई राष्ट्रमंडल खेलों में भारत के लिए जेवलिन थ्रो में स्वर्ण पदक जीतने वाले नीरज चोपड़ा अपने प्रदर्शन से खुश तो हैं, लेकिन संतुष्ट नहीं। उनका कहना है कि अभी मुझे भारत के लिए ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने की तैयारियों में जुटना है। मेरा मकसद जेवलिन थ्रो में 90 मीटर का एक बैंच मार्क तैयार करना है, जिसे कायम रखने पर ही मैं अपने लिए ओलंपिक में गोल्ड मेडल का ख्वाब पूरा कर सकूंगा। हालांकि राष्ट्रमंडल खेलों में मैंने इस सीजन का अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 86.47 मीटर का थ्रो किया था, जिसे चलते मुझे स्वर्ण पदक मिला है। लेकिन मेरा लक्ष्य 90 मीटर का थ्रो करना है।


राष्ट्रमंडल खेलों में भारतीय दल के ऐतिहासिक प्रदर्शन में अपनी भागीदारी देने वाले एथलीट नीरज चोपड़ा ने कहा कि मैंने देश के लिए स्वर्ण पदक जीता, इसकी मुझे खुशी है, लेकिन मेरा लक्ष्य ओलंपिक पदक जीतना है। इस बार मैंने अपने इस सीजन का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए स्वर्ण पदक जीता, लेकिन मुझे अपनी थ्रो को 86.47 मीटर से आगे 90 मीटर तक ले जाना है। अगर में ऐसा कर पाया तो ही मैं अपने ओलंपिक स्वर्ण पदक के सपने के करीब पहुंच पाउंगा। 90 मीटर की मेरी थ्रो एक बैंच मार्क हो सकती है। अगर मैं इसे हासिल करने में कामयाब रहता हूम तभी में वर्ल्ड चैंपियनशिप और ओलिंपक में मेडल जीतने का दावा पेश कर सकूंगा।  

Todays Beets: