Friday, March 22, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

 एशियन गेम्स में देश को स्वर्ण पदक दिलाने वाले हाकम सिंह नहीं रहे, ध्यानचंद अवार्ड से भी सम्मानित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
 एशियन गेम्स में देश को स्वर्ण पदक दिलाने वाले हाकम सिंह नहीं रहे, ध्यानचंद अवार्ड से भी सम्मानित

नई दिल्ली। भारत को 1978 के बैंकाॅक एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक दिलाने वाले हाकम सिंह भट्टल का मंगलवार को देहांत हो गया। 64 साल के हक्कम सिंह 1981 में हुए एक हादसे के बाद खेल की दुनिया से दूरी बना ली थी। वे काफी समय से किडनी और लीवर की समस्या से परेशान थे। संगरूर के अस्पताल में भर्ती इस खिलाड़ी के इलाज के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 5 लाख रुपये की राशि देने को मंजूरी दी थी। बता दें कि 2008 में हक्कम सिंह को मेजर ध्यानचंद अवार्ड से भी नवाजा गया था। 

गौरतलब है कि खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने भी स्वर्ण पदक विजेता खिलाड़ी के इलाज के लिए 10 लाख रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया था। पिछले महीने की 29 तारीख से ही हक्कम सिंह संगरूर के एक अस्पताल में भर्ती थे। 


ये भी पढ़ें - विश्वस्तरीय मुकाबलों में मेडल चाहिए तो सुविधाएं भी वैसी ही होनी चाहिए- विनेश फोगाट 

यहां बता दें कि हाकम सिंह ने 1978 में बैंकाॅक में हुए एशियन गेम्स में 20 किलोमीटर पुरुष वाॅक में भारत को स्वर्ण पदक दिलाया था। इसके बाद 1979 में एशियन ट्रैक एंड फील्ड मीट में भी स्वर्ण पदक जीता था। गौर करने वाली बात है कि 2008 में उन्हें ध्यानचंद अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था। 1981 में हुए एक हादसे के बाद हाकम सिंह ने खेल से दूरी बना ली थी।

Todays Beets: