Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

 एशियन गेम्स में देश को स्वर्ण पदक दिलाने वाले हाकम सिंह नहीं रहे, ध्यानचंद अवार्ड से भी सम्मानित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
 एशियन गेम्स में देश को स्वर्ण पदक दिलाने वाले हाकम सिंह नहीं रहे, ध्यानचंद अवार्ड से भी सम्मानित

नई दिल्ली। भारत को 1978 के बैंकाॅक एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक दिलाने वाले हाकम सिंह भट्टल का मंगलवार को देहांत हो गया। 64 साल के हक्कम सिंह 1981 में हुए एक हादसे के बाद खेल की दुनिया से दूरी बना ली थी। वे काफी समय से किडनी और लीवर की समस्या से परेशान थे। संगरूर के अस्पताल में भर्ती इस खिलाड़ी के इलाज के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 5 लाख रुपये की राशि देने को मंजूरी दी थी। बता दें कि 2008 में हक्कम सिंह को मेजर ध्यानचंद अवार्ड से भी नवाजा गया था। 

गौरतलब है कि खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने भी स्वर्ण पदक विजेता खिलाड़ी के इलाज के लिए 10 लाख रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया था। पिछले महीने की 29 तारीख से ही हक्कम सिंह संगरूर के एक अस्पताल में भर्ती थे। 


ये भी पढ़ें - विश्वस्तरीय मुकाबलों में मेडल चाहिए तो सुविधाएं भी वैसी ही होनी चाहिए- विनेश फोगाट 

यहां बता दें कि हाकम सिंह ने 1978 में बैंकाॅक में हुए एशियन गेम्स में 20 किलोमीटर पुरुष वाॅक में भारत को स्वर्ण पदक दिलाया था। इसके बाद 1979 में एशियन ट्रैक एंड फील्ड मीट में भी स्वर्ण पदक जीता था। गौर करने वाली बात है कि 2008 में उन्हें ध्यानचंद अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था। 1981 में हुए एक हादसे के बाद हाकम सिंह ने खेल से दूरी बना ली थी।

Todays Beets: