Saturday, November 17, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

 एशियन गेम्स में देश को स्वर्ण पदक दिलाने वाले हाकम सिंह नहीं रहे, ध्यानचंद अवार्ड से भी सम्मानित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
 एशियन गेम्स में देश को स्वर्ण पदक दिलाने वाले हाकम सिंह नहीं रहे, ध्यानचंद अवार्ड से भी सम्मानित

नई दिल्ली। भारत को 1978 के बैंकाॅक एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक दिलाने वाले हाकम सिंह भट्टल का मंगलवार को देहांत हो गया। 64 साल के हक्कम सिंह 1981 में हुए एक हादसे के बाद खेल की दुनिया से दूरी बना ली थी। वे काफी समय से किडनी और लीवर की समस्या से परेशान थे। संगरूर के अस्पताल में भर्ती इस खिलाड़ी के इलाज के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 5 लाख रुपये की राशि देने को मंजूरी दी थी। बता दें कि 2008 में हक्कम सिंह को मेजर ध्यानचंद अवार्ड से भी नवाजा गया था। 

गौरतलब है कि खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने भी स्वर्ण पदक विजेता खिलाड़ी के इलाज के लिए 10 लाख रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया था। पिछले महीने की 29 तारीख से ही हक्कम सिंह संगरूर के एक अस्पताल में भर्ती थे। 


ये भी पढ़ें - विश्वस्तरीय मुकाबलों में मेडल चाहिए तो सुविधाएं भी वैसी ही होनी चाहिए- विनेश फोगाट 

यहां बता दें कि हाकम सिंह ने 1978 में बैंकाॅक में हुए एशियन गेम्स में 20 किलोमीटर पुरुष वाॅक में भारत को स्वर्ण पदक दिलाया था। इसके बाद 1979 में एशियन ट्रैक एंड फील्ड मीट में भी स्वर्ण पदक जीता था। गौर करने वाली बात है कि 2008 में उन्हें ध्यानचंद अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था। 1981 में हुए एक हादसे के बाद हाकम सिंह ने खेल से दूरी बना ली थी।

Todays Beets: