Tuesday, June 19, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

Teachers' Day पर सिंधू ने ट्वीट कर लिखा- मैं अपने कोच से नफरत करती हूं, गोपीचंद... जानिए क्या हुआ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
Teachers

नई दिल्ली । 5 सितंबर यानी शिक्षक दिवस के मौके पर अमूमन हर कोई अपने गुरुजन को याद करते हुए उसकी सीख को अपने जीवन का आधार बताया है, लेकिन भारतीय शटल सनसनी पीवी सिंधू ने एक ट्वीट कर अपने कोच के लिए लिखा है कि मैं अपने कोच से नफरत करती हूं, गोपीचंद, इस वीडियो को देखें और जानें क्यों...उनका यह बयान ऐसे समय में आया है जब 22 वर्षीय सिंधू ने पुलेला गोपीचंद की देखरेख में विश्व बैडमिंटन में कई बड़ी उपलब्धी हासिल की है।


इसमें वर्ष 2016 में रियो ओलिंपिक में सिल्वर मेडल भी शामिल है, जो उन्होंने गोपीचंद के कोच रहते हुए ही जीता है, लेकिन अब जनता जानना चाहती है कि आखिर ऐसा क्या हुआ जो सिघू ने अपने कोच से नफरत किए जाने की बात कह डाली। 

असल में Teachers Day पर अपने कोच पुलेला गोपीचंद का आभार जताने के लिए भारतीय शटल सनसनी पीवी सिंधु ने एक डिजिटल फिल्म की निर्माता बनी हैं। उन्होंने स्पोर्ट्स ड्रिंक बनाने वाली कंपनी के साथ मिलकर 'आई हेट माई टीचर' नाम की इस फिल्म का निर्माण किया है। इस ट्वीट को पोस्ट करने के साथ ही सिंधु का कहना है कि शिक्षक दिवस पर मैं अपनी सफलता का सारा श्रेय अपने कोच को समर्पित करती हूं। उन्होंने कहा, इस फिल्म के निर्माण के पीछे का विचार प्रशिक्षकों, शिक्षकों, कोचों और उनके शिष्यों के बीच नफरत और प्रेम के रिश्ते को दर्शाना है। कोच ने मेरे लिए बड़ी मेहनत की है इतना ही नहीं उन्होंने मेरे लिए बड़े सपने देखे हैं। इस शिक्षक दिवस पर मैं अपनी कामयाबी का सारा श्रेय उन्हें देती हूं। 

Todays Beets: