Saturday, November 25, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

Teachers' Day पर सिंधू ने ट्वीट कर लिखा- मैं अपने कोच से नफरत करती हूं, गोपीचंद... जानिए क्या हुआ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
Teachers

नई दिल्ली । 5 सितंबर यानी शिक्षक दिवस के मौके पर अमूमन हर कोई अपने गुरुजन को याद करते हुए उसकी सीख को अपने जीवन का आधार बताया है, लेकिन भारतीय शटल सनसनी पीवी सिंधू ने एक ट्वीट कर अपने कोच के लिए लिखा है कि मैं अपने कोच से नफरत करती हूं, गोपीचंद, इस वीडियो को देखें और जानें क्यों...उनका यह बयान ऐसे समय में आया है जब 22 वर्षीय सिंधू ने पुलेला गोपीचंद की देखरेख में विश्व बैडमिंटन में कई बड़ी उपलब्धी हासिल की है।


इसमें वर्ष 2016 में रियो ओलिंपिक में सिल्वर मेडल भी शामिल है, जो उन्होंने गोपीचंद के कोच रहते हुए ही जीता है, लेकिन अब जनता जानना चाहती है कि आखिर ऐसा क्या हुआ जो सिघू ने अपने कोच से नफरत किए जाने की बात कह डाली। 

असल में Teachers Day पर अपने कोच पुलेला गोपीचंद का आभार जताने के लिए भारतीय शटल सनसनी पीवी सिंधु ने एक डिजिटल फिल्म की निर्माता बनी हैं। उन्होंने स्पोर्ट्स ड्रिंक बनाने वाली कंपनी के साथ मिलकर 'आई हेट माई टीचर' नाम की इस फिल्म का निर्माण किया है। इस ट्वीट को पोस्ट करने के साथ ही सिंधु का कहना है कि शिक्षक दिवस पर मैं अपनी सफलता का सारा श्रेय अपने कोच को समर्पित करती हूं। उन्होंने कहा, इस फिल्म के निर्माण के पीछे का विचार प्रशिक्षकों, शिक्षकों, कोचों और उनके शिष्यों के बीच नफरत और प्रेम के रिश्ते को दर्शाना है। कोच ने मेरे लिए बड़ी मेहनत की है इतना ही नहीं उन्होंने मेरे लिए बड़े सपने देखे हैं। इस शिक्षक दिवस पर मैं अपनी कामयाबी का सारा श्रेय उन्हें देती हूं। 

Todays Beets: