Friday, November 17, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

सचिन ने लक्ष्मण को शास्त्री के नाम पर मनाया, लेकिन दादा ने चली ऐसी चाल की शास्त्री के हाथ में 'पावर' छीन ली

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सचिन ने लक्ष्मण को शास्त्री के नाम पर मनाया, लेकिन दादा ने चली ऐसी चाल की शास्त्री के हाथ में

नई दिल्ली । बड़े ही नाटकीय अंदाज में आखिरकार पूर्व क्रिकेटर रवि शास्त्री को टीम इंडिया का मुख्य कोच चुन लिया गया है। इस पूरे घटनाक्रम में मंगलवार का दिन काफी नाटकीय रहा। पहले ऐलान हुआ कि शास्त्री को टीम इंडिया का मुख्य कोच चुन लिया गया है, लेकिन बाद में बीसीसीआई ने इन खबरों का खंडन किया और कहा कि अभी अंतिम फैसला नहीं लिया गया है। हालांकि बाद में फिर खबर आई कि शास्त्री को मुख्य कोच, पूर्व तेज गेंजबाद जहीर खान को गेंदबाजी का कोच और भारतीय टीम के विदेश दौरे के दौरान राहुल द्रविड़ टीम इंडिया के बैटिंग कोच होंगे। हालांकि इस नाटकीय कहानी की पटकथा लिखते हुए शास्त्री के हाथों में लगाम तो दी गई है लेकिन जहीर और द्रविड़ की नियुक्ति से चाबुक छीन ली है। 

पिछली बार सीएसी ने शास्त्री पर अनिल कुंबले को तरजीह दी थी और जंबो को टीम इंडिया मुख्य कोच नियुक्त किया। बताया गया कि उस दौरान दादा यानी सौरभ गांगूली के चलते ही शास्त्री कोच नहीं बन पाए थे, हालांकि उस दौरान भी सचिन शास्त्री के समर्थन में थे। लेकिन इस बार शास्त्री को मिला सचिन और कोहली का साथ, जिसके चलते उन्होंने वीरू, टॉम मूडी, लालचंद राजपूत व अन्य पर तरहीज पाई और बन गए टीम इंडिया के मुख्य कोच।  

ये भी पढ़ें- धोनी की सैलरी पर सवाल उठाना भारी पड़ा पाकिस्तानी पूर्व क्रिकेटर रमीज राजा को

सूत्रों की मानें तो शास्त्री ने स्काइप के जरिए अपने इंटरव्यू में काफी दमदार तरीके से अपनी बातें रखी लेकिन सपोर्टिंग स्टाफ के मामले में गांगूली ने उन्हें घेर लिया।  उन्होंने संजय बांगड़ को बैटिंग कोच और भरत अरुण को गेंदबाजी कोच के रूप में लाने की बात कही थी, जिसे लेकर दादा ने सवाल उठाए। असल में कहा जा रहा है कि कुंबले और कोहली विवाद का एक कारण संजय बागड़ भी रहे हैं। इसलिए दादा बागड़ को दोबारा रखने के पक्ष में नहीं दिखे। 

क्रिकेट एडवायजरी कमेटी ने शास्त्री से इंटरव्यू के बाद अपनी आम राय बनाई। शास्त्री को कोहली का समर्थन तो था ही साथ ही कमेटी के सदस्य सचिन तेंदुलकर ने भी शास्त्री का समर्थन कर उनकी राह आसान कर दी। इसके बाद शास्त्री को टीम इंडिया का नया मुख्य कोच नियुक्त करने की घोषणा कर दी है, हालांकि शास्त्री की टीम के बांगड़ और भरत की जगह जहीर खान को गेंदबाजी कोच और विदेश दौरे के लिए द्रविड़ को बैटिंग कोच नियुक्त कर दादा ने कई हद तक शास्त्री के हाथ बांध दिए हैं। 


ये भी पढ़ें- मंत्री का अपमान करना मलिंगा को पड़ा भारी, एक साल के लिए हुए बैन...

सूत्रों का कहना है कि शास्त्री के नाम पर सचिन ने लक्ष्मण को अपनी राय पर सहमत कर लिया लेकिन जब दादा ने गेंदबाजी कोच के लिए जहीर का नाम रखा तो लक्ष्मण सौरभ गांगूली के साथ हो गए। ऐसे में शास्त्री को कोच बनाने की जुगत में लगी लॉबी के पास कोई जवाब नहीं बचा। 

ये भी पढ़ें- टेनिस दिग्गज बोरिस बेकर हुए दिवालिया, पत्नी लिली भी छोड़ रही हैं उनका साथ....

इस पूरे घटनाक्रम के बाद घोषणा कर दी गई कि शास्त्री नए कोच होंगे लेकिन बीसीसीआई ने इस खबर का खंडन कर दिया । असल में विनोद राय की अगुआई वाली सीओए मंगलवार शाम को ही कोच की घोषणआ करना चाहती थी। हालांकि बाद में शास्त्री को जहीर खान और द्रविड़ के नाम के साथ राजी कर लिया गया और आखिरकार काफी जद्दोजहद के बाद शास्त्री को टीम इंडिया के मुख्य कोच के तौर पर नियुक्त किए जाने की आधिकारिक घोषणा कर दी गई। 

 

Todays Beets: