Tuesday, August 14, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

संजीत चानू फेल नहीं हुई थी डोप टेस्ट में, आईडब्लूएफ ने मानी अपनी गलती

अंग्वाल न्यूज डेस्क
संजीत चानू फेल नहीं हुई थी डोप टेस्ट में, आईडब्लूएफ ने मानी अपनी गलती

नई दिल्ली। गोल्ड कोस्ट राष्टमंडल खेलों में भारोत्तोलन में भारत को स्वर्ण पदक दिलाने वाली संजीता चानू के डोप टेस्ट में फेल होने की खबर गलत थी। अंतरराष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ (IWF) ने शुक्रवार को इस मामले में अपनी गलती स्वीकार की है। आईडब्लूएफ ने कहा कि सैंपल के नंबर में गलती की वजह से इतनी बड़ी भूल हुई है। अब संजीता चानू ने अंतरराष्ट्रीय महासंघ की इस लापरवाही पर जांच की मांग की है। 

गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ (आईडब्ल्यूएफ) ने संजीता चानू के विफल डोप परीक्षण में अलग नमूना संख्या देने की बात को स्वीकार की है। इसके बाद राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता संजीता ने जांच की मांग की है। आपको बता दें कि महासंघ ने संजीता के सैंपल में एनाबॉलिक स्टेरॉइड टेस्टोस्टेरॉन नाम का ड्रग पाए जाने का दावा किया था जो बैन किया जा चुका है। इसी के चलते आईडब्लूएफ ने उन्हें उस वक्त अस्थाई रूप से सस्पेंड भी कर दिया था। 


ये भी पढ़ें - डीडीसीए ने गठित की नई कमेटी, सहवाग और गंभीर को शामिल करने पर उठे सवाल

यहां बता दें कि आईडब्ल्यूएफ ने राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) को भेजे पत्र में यह बात स्वीकार की है।  इसके बाद अब संजीता चानू ने आईडब्ल्यूएफ को पत्र लिखकर मामले की जांच कराने की मांग की है। बताया जा रहा है कि डोप नतीजे की जानकारी देते हुए आईडब्ल्यूएफ ने संजीता को 15 मई को जो पत्र भेजा था, इसमें पिछले साल लॉस एंजिलिस में 17 नवंबर को लिए नमूने को कोड नंबर 1599000 दिया है, जबकि नतीजे के वर्ग में नमूना संख्या 1599176 दी गई है। आईडब्ल्यूएफ ने अपनी गलती उस समय स्वीकार की जब यह मुद्दा प्रधानमंत्री कार्यालय तक पहुंचा।

Todays Beets: