Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

धोनी को लेकर श्रीनिवासन का खुलासा, कहा- हां मेरे वीटो के कारण बची उसकी कप्तानी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
धोनी को लेकर श्रीनिवासन का खुलासा, कहा- हां मेरे वीटो के कारण बची उसकी कप्तानी

बंगलुरु। कुछ सालों पहले टीम इंडिया के लगातार खराब प्रदर्शन के बावजूद तत्कालीन कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी बरकरार रखने के पीछे बीसीसीआई के उस वक्त के अध्यक्ष एन श्रीनिवासन का हाथ था। इस बात की पुष्टि खुद श्रीनिवासन ने की है। श्रीनिवासन और धोनी के बीच हमेशा से अच्छे संबंध रहे हैं। उनके कार्यकाल में महेन्द्र सिंह धोनी को टीम के हित में फैसले लेने की पूरी छूट मिली हुई थी। बता दें कि आईपीएल में श्रीनिवासन की टीम चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) के कप्तान भी थे। 

श्रीनिवासन का वीटो

गौरतलब है कि एक पत्रकार द्वारा लिखी गई किताब में एन श्रीनिवासन ने इस बात का खुलासा किया है कि 2012 में आॅस्ट्रेलिया दौरे पर लगातार खराब प्रदर्शन के बावजूद महेन्द्र सिंह धोनी को उनके वीटो के कारण ही कप्तान बनाए रखा गया जबकि उस वक्त के चयनकर्ता मोहिंदर अमरनाथ उन्हें हटाना चाहते थे। श्रीनिवासन ने कहा कि ऐसा कर उन्होंने कोई बुरा काम नहीं किया। श्रीनिवासन ने कहा कि एक साल पहले देश को विश्वकप जिताने वाले कप्तान को ऐसे कैसे हटाया जा सकता है।

ये भी  पढ़ें - खुशखबरी - कार-होम या टू-व्हीलर लोन लेने वालों को 66 दिन खास राहत, लोन के लिए बैंक को नहीं देन...


स्पाॅट फिक्सिंग पर तोड़ी चुप्पी

यहां आपको बता दें कि इस किताब में श्रीनिवासन के साथ संबंधों पर बोलते हुए धोनी ने कहा कि ‘वे हमेशा ही क्रिकेट के हितों में फैसले लेने वाले व्यक्ति रहे हैं, मुझे इस बात का कोई फर्क नहीं पड़ता कि लोग मेरे बारे में क्या कहते हैं।’ आईपीएल में हुई स्पाॅट फिक्सिंग पर भी अपनी चुप्पी तोड़ते हुए पूर्व कप्तान ने कहा कि श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मयप्पन को लेकर मैंने कभी भी यह नहीं कहा कि वह ‘एंथुजियास्ट’नहीं हैं। उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि टीम के फैसले में उसका कोई दखल नहीं होता है। साल 2013 में आईपीएल में हुए स्पाॅट फिक्सिंग पर बोलते हुए धोनी ने कहा कि कोई मेरी कितनी भी आलोचना करे, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता, हां अगर क्रिकेट को लेकर अगर मुझ पर किसी तरह का इल्जाम लगाया जाएगा तो मुझे भी मीडिया से दूरियां बनानी पडेगी। 

 

 

Todays Beets: