Thursday, April 19, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

आजीवन प्रतिबंध झेल रहे श्रीसंथ पर सुप्रीम कोर्ट का दो टूक, बीसीसीआई से 4 हफ्तों में मांगा जवाब

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आजीवन प्रतिबंध झेल रहे श्रीसंथ पर सुप्रीम कोर्ट का दो टूक, बीसीसीआई से 4 हफ्तों में मांगा जवाब

नई दिल्ली। भारतीय तेज गेंदबाज एस श्रीसंथ पर सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को सुनवाई हुई। कोर्ट ने श्रीसंथ पर लगे आजीवन प्रतिबंध पर 4 हफ्तों में बीसीसीआई से जवाब मांगा है। यहां बता दें कि बीसीसीआई के साल 2013 में उसपर आईपीएल में स्पाॅट फिक्सिंग करने के आरोप में आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था। श्रीसंथ ने इस फैसले के खिलाफ केरल हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी।

फैसले को पलटा

गौरतलब है कि 1 फरवरी को मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने इसे रोस्टर के अनुसार एक उपयुक्त पीठ के समक्ष सुनवाई के लिए सूचीबद्ध करने का निर्देश दिया था। इस पीठ ने कहा, ‘‘इस मामले को 5 फरवरी को रोस्टर के मुताबिक उपयुक्त पीठ के समक्ष रखा जाए। इससे पहले हाईकोर्ट की एक खंडपीठ ने 34 वर्षीय इस तेज गेंदबाज पर एकल पीठ के उस फैसले को पलट दिया था जिसमें बीसीसीआई द्वारा लगाए गए आजीवन प्रतिबंध को निरस्त किया गया था।’’


ये भी पढ़ें - कोका कोला में मिलेगा जूस का मजा, कंपनी पहली बार भारत में कर रही यह प्रयोग

हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती

यहां बता दें कि केरल हाईकोर्ट ने श्रीसंथ को बीसीसीआई की तरफ से आयोजित होने वाले क्रिकेट के किसी भी मैच में शामिल नहीं करने का आदेश दिया था। श्रीसंथ ने केरल हाईकोर्ट के इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। साल 2016 में दिल्ली की एक स्पेशल कोर्ट ने श्रीसंथ को आरोपी मानते हुए इस मामले में उन पर सभी चार्ज तय किए थे।

Todays Beets: