Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

आजीवन प्रतिबंध झेल रहे श्रीसंथ पर सुप्रीम कोर्ट का दो टूक, बीसीसीआई से 4 हफ्तों में मांगा जवाब

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आजीवन प्रतिबंध झेल रहे श्रीसंथ पर सुप्रीम कोर्ट का दो टूक, बीसीसीआई से 4 हफ्तों में मांगा जवाब

नई दिल्ली। भारतीय तेज गेंदबाज एस श्रीसंथ पर सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को सुनवाई हुई। कोर्ट ने श्रीसंथ पर लगे आजीवन प्रतिबंध पर 4 हफ्तों में बीसीसीआई से जवाब मांगा है। यहां बता दें कि बीसीसीआई के साल 2013 में उसपर आईपीएल में स्पाॅट फिक्सिंग करने के आरोप में आजीवन प्रतिबंध लगा दिया था। श्रीसंथ ने इस फैसले के खिलाफ केरल हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी।

फैसले को पलटा

गौरतलब है कि 1 फरवरी को मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने इसे रोस्टर के अनुसार एक उपयुक्त पीठ के समक्ष सुनवाई के लिए सूचीबद्ध करने का निर्देश दिया था। इस पीठ ने कहा, ‘‘इस मामले को 5 फरवरी को रोस्टर के मुताबिक उपयुक्त पीठ के समक्ष रखा जाए। इससे पहले हाईकोर्ट की एक खंडपीठ ने 34 वर्षीय इस तेज गेंदबाज पर एकल पीठ के उस फैसले को पलट दिया था जिसमें बीसीसीआई द्वारा लगाए गए आजीवन प्रतिबंध को निरस्त किया गया था।’’


ये भी पढ़ें - कोका कोला में मिलेगा जूस का मजा, कंपनी पहली बार भारत में कर रही यह प्रयोग

हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती

यहां बता दें कि केरल हाईकोर्ट ने श्रीसंथ को बीसीसीआई की तरफ से आयोजित होने वाले क्रिकेट के किसी भी मैच में शामिल नहीं करने का आदेश दिया था। श्रीसंथ ने केरल हाईकोर्ट के इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। साल 2016 में दिल्ली की एक स्पेशल कोर्ट ने श्रीसंथ को आरोपी मानते हुए इस मामले में उन पर सभी चार्ज तय किए थे।

Todays Beets: