Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

बिहार के 18 सालों का ‘वनवास’ होगा खत्म, बीसीसीआई की तकनीकी समिति ने रणजी ट्राॅफी में शामिल करने की सिफारिश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिहार के 18 सालों का ‘वनवास’ होगा खत्म, बीसीसीआई की तकनीकी समिति ने रणजी ट्राॅफी में शामिल करने की सिफारिश

नई दिल्ली। बिहार के क्रिकेट खिलाड़ियों को बीसीसीआई ने बड़ी राहत दी है। सौरभ गांगुली के नेतृत्व वाली भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की तकनीकी समिति ने सर्व सम्मति से बिहार की टीम को रणजी ट्राॅफी 2018-19 सत्र में खेलने की अनुमति दे दी है। अब 18 साल से राष्ट्रीय चैंपियनशिप रणजी में बिहार की वापसी होगी। 

गौरतलब है कि बीसीसीआई की तकनीकी समिति ने अपनी बैठक में बिहार को रणजी ट्रॉफी 2018-19 सत्र शामिल करने के साथ और भी कई सिफारिशें की हैं जिसमें सबसे महत्वपूर्ण रणजी ट्रॉफी में प्री क्वार्टर फाईनल की शुरुआत है। तकनीकी समिति ने अपनी सिफारिश में कहा कि रणजी ट्रॉफी में 2018-19 सत्र में 4 ग्रुप होंगे और मैच ‘होम एंड अवे’ आधार पर खेले जाएंगे जबकि नए सत्र से प्री क्वार्टरफाईनल की शुरुआत की जाएगी। 

ये भी पढ़ें - वाहन चालकों को मिली बड़ी राहत, अब आप अपने डीएल से ही चला सकेंगे कमर्शियल व्हीकल  


आपको बता दें कि बीसीसीआई के सचिव (कार्यवाहक) अमिताभ चौधरी ने कहा कि तकनीकी समिति ने बिहार को रणजी ट्राॅफी के सत्र 2018-19 में शामिल करने को मंजूरी दे दी है। हालांकि तकनीकी समिति को लगता है कि सुप्रीम कोर्ट के 18 जुलाई 2016 के दिए गए फैसले के मद्देनजर पूर्वोत्तर के एसोसिएट और संबद्ध सदस्यों पर भी विचार किया जाना चाहिए। अब तकनीकी समिति द्वारा की गई सिफारिशों को बीसीसीआई का कार्यभार देख रही प्रशासकों की समिति को भेजा जाएगा और वहां से स्वीकृति मिलने के बाद बीसीसीआई की आम सभा में इसे पास किया जाएगा। 

 

Todays Beets: