Thursday, September 21, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

वीवो एक बार फिर बना आईपीएल का टाइटल स्पाॅन्सर, 5 सालों के लिए हासिल किया अधिकार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वीवो एक बार फिर बना आईपीएल का टाइटल स्पाॅन्सर, 5 सालों के लिए हासिल किया अधिकार

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच सीमा पर भले ही विवाद चल रहा हो लेकिन चीन ने भारतीय खेल के क्षेत्र में अपनी पकड़ मजबूत कर ली है। मोबाइल बनाने वाली चीन की कंपनी वीवो ने अगले पांच सालों के लिए आईपीएल की टाइटल स्पाॅन्सरशिप हासिल कर ली है। इसके लिए कंपनी ने करीब 2199 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।

5 सालों के बना स्पाॅन्सर

गौरतलब है कि भारत की राष्ट्रीय टीम की स्पाॅन्सरशिप चीनी कंपनी ओपो के पास है। वीवो हर साल कंपनी आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सरशिप पर तकरीबन 440 करोड़ रुपये खर्च करेगी। आपको बता दें कि बीसीसीआई ने 1 अगस्त 2017 से 31 जुलाई 2022 के बीच पांच साल के स्पॉन्सरशिप राइट्स के लिए आवेदन मंगाए थे। वीवो इससे पहले 9वें और 10वें सीजन में आईपीएल का टाइटल स्पॉन्सर रह चुके है। इसके लिए उसने 100 करोड़ रुपये प्रति सीजन खर्च किए थे। 


पहले पेप्सी था स्पाॅन्सर

गौर करने वाली बात यह है कि वीवो से पहले आईपीएल का स्पॉन्सर पेप्सी था। पेप्सी ने पांच साल के लिए 396 करोड़ में टाइटल स्पॉन्सरशिप हासिल की थी। अब नई डील के अनुसार वीवो ने पेप्सी से साढ़े चार गुना ज्यादा रकम खर्च की है।

Todays Beets: