Friday, November 17, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

शूटिंग रेंज में ततैयों ने मचाया आंतक, महिला निशानेबाज हुई घायल

अंग्वाल संवाददाता
शूटिंग रेंज में ततैयों ने मचाया आंतक, महिला निशानेबाज हुई घायल

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के तुगलकाबाद क्षेत्र में स्थित विश्वस्तरीय डॉ. कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में शुक्रवार को ततैयों ने एक निशानेबाज पर ही निशाना लगा डाला। दरअसल, शूटिंग रेंज में दिल्ली की पिस्टल निशानेबाज लवलीन कौर कुछ लोगों के साथ अभ्यास कर रही थी। इस दौरान ततैयों ने उन पर हमला कर दिया। उन्हें कई ततैयों ने डंक मारे। सबसे हैरान कर देने वाली बात रही कि विश्वस्तरीय शूंटिग रेंज में फस्ट एड जैसी कोई सुविधा उपलब्ध नहीं थी। वहां मौजूद एक सफाई कर्मी ने उनकी तत्काल मदद की।

इस पिस्टल निशानेबाज ने कहा, मैं टेम्पलेट चेंज करने टारगेट एरिया में गई तो अचानक से ततैयों ने मुझ पर हमला कर दिया। ततैयों ने मेरे शरीर पर कई जगह डंक मारे, जिसके चलते मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे मैं सुन्न हो गई थी। मुझे चक्कर आने लगे। मेरे चेहरे पर सूजन आ गई और लाल पड़ गया।

यह भी पढ़े- सिर पर बाउंसर गेंद लगने से पाकिस्तानी बल्लेबाज जुबैर की मौके पर ही मौत


निशानेबाज ने बातचीत में बताया कि, पूरे शरीर पर मुझे सुईयां चुभने लगने का एहसास हो रहा था। उस समय वहां ज्यादा लोग मौजूद नहीं थे। कुछ पुरूष निशानेबाज  ही थे। गार्ड ने मुझे स्टील का स्केल दिया ताकि उसे मैं अपने शरीर पर रगड़ सकूं।

यह भी पढ़े- भारत की 85 सालों बाद ऐतिहासिक जीत, श्रीलंकाई बल्लेबाजों को ढाई दिन में दो बार ढेर कर सीरीज मे...

लवलीन ने कहा, महिला सफाई कर्मियों ने मेरी गोलियों के खोल उठाने के साथ मुझे सामान पैक करने में मदद की। वहां कोई भी प्राथमिक स्तर तक चिकित्सा सेवा तक उपलब्ध नहीं थी।

Todays Beets: