Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

शूटिंग रेंज में ततैयों ने मचाया आंतक, महिला निशानेबाज हुई घायल

अंग्वाल संवाददाता
शूटिंग रेंज में ततैयों ने मचाया आंतक, महिला निशानेबाज हुई घायल

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के तुगलकाबाद क्षेत्र में स्थित विश्वस्तरीय डॉ. कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में शुक्रवार को ततैयों ने एक निशानेबाज पर ही निशाना लगा डाला। दरअसल, शूटिंग रेंज में दिल्ली की पिस्टल निशानेबाज लवलीन कौर कुछ लोगों के साथ अभ्यास कर रही थी। इस दौरान ततैयों ने उन पर हमला कर दिया। उन्हें कई ततैयों ने डंक मारे। सबसे हैरान कर देने वाली बात रही कि विश्वस्तरीय शूंटिग रेंज में फस्ट एड जैसी कोई सुविधा उपलब्ध नहीं थी। वहां मौजूद एक सफाई कर्मी ने उनकी तत्काल मदद की।

इस पिस्टल निशानेबाज ने कहा, मैं टेम्पलेट चेंज करने टारगेट एरिया में गई तो अचानक से ततैयों ने मुझ पर हमला कर दिया। ततैयों ने मेरे शरीर पर कई जगह डंक मारे, जिसके चलते मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे मैं सुन्न हो गई थी। मुझे चक्कर आने लगे। मेरे चेहरे पर सूजन आ गई और लाल पड़ गया।

यह भी पढ़े- सिर पर बाउंसर गेंद लगने से पाकिस्तानी बल्लेबाज जुबैर की मौके पर ही मौत


निशानेबाज ने बातचीत में बताया कि, पूरे शरीर पर मुझे सुईयां चुभने लगने का एहसास हो रहा था। उस समय वहां ज्यादा लोग मौजूद नहीं थे। कुछ पुरूष निशानेबाज  ही थे। गार्ड ने मुझे स्टील का स्केल दिया ताकि उसे मैं अपने शरीर पर रगड़ सकूं।

यह भी पढ़े- भारत की 85 सालों बाद ऐतिहासिक जीत, श्रीलंकाई बल्लेबाजों को ढाई दिन में दो बार ढेर कर सीरीज मे...

लवलीन ने कहा, महिला सफाई कर्मियों ने मेरी गोलियों के खोल उठाने के साथ मुझे सामान पैक करने में मदद की। वहां कोई भी प्राथमिक स्तर तक चिकित्सा सेवा तक उपलब्ध नहीं थी।

Todays Beets: