Wednesday, June 20, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

शूटिंग रेंज में ततैयों ने मचाया आंतक, महिला निशानेबाज हुई घायल

अंग्वाल संवाददाता
शूटिंग रेंज में ततैयों ने मचाया आंतक, महिला निशानेबाज हुई घायल

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के तुगलकाबाद क्षेत्र में स्थित विश्वस्तरीय डॉ. कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में शुक्रवार को ततैयों ने एक निशानेबाज पर ही निशाना लगा डाला। दरअसल, शूटिंग रेंज में दिल्ली की पिस्टल निशानेबाज लवलीन कौर कुछ लोगों के साथ अभ्यास कर रही थी। इस दौरान ततैयों ने उन पर हमला कर दिया। उन्हें कई ततैयों ने डंक मारे। सबसे हैरान कर देने वाली बात रही कि विश्वस्तरीय शूंटिग रेंज में फस्ट एड जैसी कोई सुविधा उपलब्ध नहीं थी। वहां मौजूद एक सफाई कर्मी ने उनकी तत्काल मदद की।

इस पिस्टल निशानेबाज ने कहा, मैं टेम्पलेट चेंज करने टारगेट एरिया में गई तो अचानक से ततैयों ने मुझ पर हमला कर दिया। ततैयों ने मेरे शरीर पर कई जगह डंक मारे, जिसके चलते मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे मैं सुन्न हो गई थी। मुझे चक्कर आने लगे। मेरे चेहरे पर सूजन आ गई और लाल पड़ गया।

यह भी पढ़े- सिर पर बाउंसर गेंद लगने से पाकिस्तानी बल्लेबाज जुबैर की मौके पर ही मौत


निशानेबाज ने बातचीत में बताया कि, पूरे शरीर पर मुझे सुईयां चुभने लगने का एहसास हो रहा था। उस समय वहां ज्यादा लोग मौजूद नहीं थे। कुछ पुरूष निशानेबाज  ही थे। गार्ड ने मुझे स्टील का स्केल दिया ताकि उसे मैं अपने शरीर पर रगड़ सकूं।

यह भी पढ़े- भारत की 85 सालों बाद ऐतिहासिक जीत, श्रीलंकाई बल्लेबाजों को ढाई दिन में दो बार ढेर कर सीरीज मे...

लवलीन ने कहा, महिला सफाई कर्मियों ने मेरी गोलियों के खोल उठाने के साथ मुझे सामान पैक करने में मदद की। वहां कोई भी प्राथमिक स्तर तक चिकित्सा सेवा तक उपलब्ध नहीं थी।

Todays Beets: