Wednesday, September 26, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

शूटिंग रेंज में ततैयों ने मचाया आंतक, महिला निशानेबाज हुई घायल

अंग्वाल संवाददाता
शूटिंग रेंज में ततैयों ने मचाया आंतक, महिला निशानेबाज हुई घायल

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के तुगलकाबाद क्षेत्र में स्थित विश्वस्तरीय डॉ. कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में शुक्रवार को ततैयों ने एक निशानेबाज पर ही निशाना लगा डाला। दरअसल, शूटिंग रेंज में दिल्ली की पिस्टल निशानेबाज लवलीन कौर कुछ लोगों के साथ अभ्यास कर रही थी। इस दौरान ततैयों ने उन पर हमला कर दिया। उन्हें कई ततैयों ने डंक मारे। सबसे हैरान कर देने वाली बात रही कि विश्वस्तरीय शूंटिग रेंज में फस्ट एड जैसी कोई सुविधा उपलब्ध नहीं थी। वहां मौजूद एक सफाई कर्मी ने उनकी तत्काल मदद की।

इस पिस्टल निशानेबाज ने कहा, मैं टेम्पलेट चेंज करने टारगेट एरिया में गई तो अचानक से ततैयों ने मुझ पर हमला कर दिया। ततैयों ने मेरे शरीर पर कई जगह डंक मारे, जिसके चलते मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे मैं सुन्न हो गई थी। मुझे चक्कर आने लगे। मेरे चेहरे पर सूजन आ गई और लाल पड़ गया।

यह भी पढ़े- सिर पर बाउंसर गेंद लगने से पाकिस्तानी बल्लेबाज जुबैर की मौके पर ही मौत


निशानेबाज ने बातचीत में बताया कि, पूरे शरीर पर मुझे सुईयां चुभने लगने का एहसास हो रहा था। उस समय वहां ज्यादा लोग मौजूद नहीं थे। कुछ पुरूष निशानेबाज  ही थे। गार्ड ने मुझे स्टील का स्केल दिया ताकि उसे मैं अपने शरीर पर रगड़ सकूं।

यह भी पढ़े- भारत की 85 सालों बाद ऐतिहासिक जीत, श्रीलंकाई बल्लेबाजों को ढाई दिन में दो बार ढेर कर सीरीज मे...

लवलीन ने कहा, महिला सफाई कर्मियों ने मेरी गोलियों के खोल उठाने के साथ मुझे सामान पैक करने में मदद की। वहां कोई भी प्राथमिक स्तर तक चिकित्सा सेवा तक उपलब्ध नहीं थी।

Todays Beets: