Wednesday, February 21, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

बसपा सुप्रीमो मायावती ने राज्यसभा से इस्तीफा दिया, सरकार पर आवाज दबाने का लगाया आरोप

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बसपा सुप्रीमो मायावती ने राज्यसभा से इस्तीफा दिया, सरकार पर आवाज दबाने का लगाया आरोप

नई दिल्ली । बसपा सुप्रीमो मायावती ने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया । अपने इस फैसले के साथ ही उन्होंने केंद्र सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि सहारनपुर हिंसा में दलितों के उत्पीड़न पर मुझे बोलने का मौका सत्ता पक्ष ने नहीं दिया।  इसलिए मैंने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार मुझे सदन में अपनी बात रखने का मौका नहीं दे रही है। हालांकि यूपीए के सदस्यों ने मुझे अपने फैसले पर विचार करने को कहा था लेकिन मैंने इस्तीफा देना ज्यादा उचित समझा है। सूत्रों का कहना है कि उनका इस्तीफा जल्द स्वीकार भी कर लिया जाएगा।

बता दें कि मानसून सत्र की शुरुआत के पहले ही दिन बसपा सुप्रीमो मायावती के एक फैसले ने सबको चौंका दिया। पिछले कुछ समय में दलित राजनीति में अपनी पकड़ ढीली छोड़ने वाली मायावती ने मंगववार को राज्ससभा सांसद पद से इस्तीफा दिया। एक बार फिर उन्होंने अपने इस फैसले के पीछे केंद्र की मोदी सरकार को दोषी ठहराया। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सालों से उन्हें सदन में बोलने नहीं दिया जा रहा है। वह दलितों के मुद्दे सदन में सही तरीके से नहीं उठा पा रही हैं। संसद के सुबर के सत्र में मायावती ने कहा था कि अगर मुझे सहारनपुर हिंसा में दलितों के उत्पीड़न पर बोलने का मौका नहीं दिया तो मैं सदन से इस्तीफा दे दूंगी। शाम होते होते उन्होंने अपने इस्तीफे का ऐलान कर दिया। 


इससे पहले संसद से बेहद गुस्से में बाहर निकलीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने सदन के बाहर आकर कहा कि उन्हें सदन में अपनी बात नहीं रखने दी जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार दलीतों के नाम पर नोटंकी कर रही है। 

Todays Beets: