Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह ने कहा- हाउसिंग प्रोजेक्ट के लिए नहीं काटे जाएंगे पेड़

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह ने कहा- हाउसिंग प्रोजेक्ट के लिए नहीं काटे जाएंगे पेड़

नई दिल्ली। दक्षिण दिल्ली में 7 कलोनियों के हाउसिंग प्रोजेक्ट के लिए अब पेड़ नहीं काटे जाएंगे। अब पेड़ों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए नए सिरे से प्रोजेक्ट को तैयार किया जाएगा। राष्ट्रीय भवन निर्माण और केंद्रिय लोक निर्माण विभाग निर्माणधीन प्रोजेक्ट के डिजाइन में फेरबदल करेंगे। बता दें कि इस मामले में गुरुवार को केंद्रीय आवास व शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी की अध्यक्षता में हुई बैठक में पूरे प्रोजेक्ट की नए सिरे से समीक्षा की गई। बैठक में मंत्रालय सचिव दुर्गा शंकर मिश्र, उपराज्यपाल अनिल बैजल समेत वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। बैठक में एनबीसीसी व पीडब्ल्यूडी को निर्देश दिया गया कि वे प्रोजेक्ट के बचे हुए हिस्से में इस तरह बदलाव करें, जिससे पेड़ों को कटने से बचाया जा सके। 

ये भी पढ़े-राजस्थान के श्रम विभाग में कर्मचारी नहीं पहन सकेंगे जींस और टीशर्ट, श्रमायुक्त ने जारी किया अ...


गौरतलब है कि इस मामले में 9 जानवरी को हुई बैठक में डीडीए द्वारा 10 लाख पौधे लगाने के फैसले पर बात हुई थी। वहीं एनबीसीसी, सीपीडब्ल्यूडी व डीएमआरसी को 25,000, 50,000 व 20,000 हजार पौधे लगाने को कहा गया। ये सभी आठ से 12 फुट के पेड़ होंगे। पौधरोपण कार्यक्रम मानसून के दौरान अगले तीन महीनों में पूरा किया जाना है। उपराज्यपाल ने सलाह दी कि पौधारोपण अभियान में आम लोगों की भागीदारी बढ़ाने के लिए विशेषज्ञों व स्थानीय निवासियों की कमेटी बनाई जाए। 

Todays Beets: