Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

बिहार में 6 महीने में तीसरी बार आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिहार में 6 महीने में तीसरी बार आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या

पटना। बिहार से फिर एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। बिहार के मोतीहारी में एक आरटीआई कार्यकर्ता की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई। बता दें कि 6 महीने के अंदर आरटीआई अधिकारी की हत्या का यह तीसरा मामला है। मृतक राजेंद्र नागरिक अधिकार मंच से जुड़े हुए थे। उन्होंने पुलिस प्रशासन और मनरेगा से जुड़े भ्रष्टाचार के कई मामलों का खुलासा किया था।

मंगलवार दोपहर राजेंद्र सिंह अपनी मोटरसाइकल पर सवार होकर मोतीहारी से अपने गांव संग्रामपुर लौट रहे थे कि तभी एक मोटरसाइकल पर सवार दो बदमाशों ने उनकी मोटरसाइकल के ओवरटेक कर एक के बाद एक उन पर 3 गोलीयां दाग दी जिसके बाद मौके पर ही उन की मौत हो गई। इस वारदात को एस सुनसान जगह पर अंजाम दिया गया।

ये भी पढ़े-हमीरपुर में चलता-फिरता अस्पताल कर रहा लोगों का इलाज, अनुराग ठाकुर ने शुरू की थी मोबाइल हेल्थ सेवा

नागरिक अधिकार मंच के शिवप्रकाश ने बताया कि राजेंद्र की हत्या आरटीआई कर्यकर्ता होने के कारण की गई है। शिवप्रकाश ने कहा कि 12 जून को जब उनकी मुलाकात राजेंद्र से हुई थी तब उन्होंने अपनी हत्या की अशंका जताई थी। इससे पहले भी उन पर 3 बार जानलेवा हमले हो चुके थे।


गौरतलब है कि  राजेंद्र सिंह शिक्षक नियुक्ति घोटाला, मनरेगा और इंदिरा आवास योजना से जुडे मामले भी उजागर कर चुके थे जो उन की हत्या की बड़ी वजह हो सकती है।

ये भी पढ़े-गोल्ड मेडल जीत चुका पहलवान बना अपराधी, हत्या के आरोप में गिरफ्तार

वहीं मोतिहारी एसपी उपेन्द्र यादव का कहना है कि पुलिस हर एगंल से मामले की जांच कर रही है। हत्या की वजह पारिवारिक रंजिश भी हो सकती है। उनकी पत्नी ने शिकायत में संपत्ती विवाद का भी उल्लेख किया है।

यहां आपको बता दें कि बिहार में आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या का यह तीसरा मामला है। इससे पहले वैशाली के आरटीआई कार्यकर्ता की भी हत्या की जा चुकी है। जानकारी के मुताबिक 13 वर्षों में 13 आरटीआई कार्यकर्ताओं की हत्या की जा चुकी है।

Todays Beets: