Monday, December 18, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

उत्तर प्रदेश विधानसभा में मिलने वाला संदिग्घ पाउडर विस्फोटक नहीं, आगरा लैब ने किया खुलासा, सरकार का इनकार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तर प्रदेश विधानसभा में मिलने वाला संदिग्घ पाउडर विस्फोटक नहीं, आगरा लैब ने किया खुलासा, सरकार का इनकार

लखनऊ।

उत्तर प्रदेश विधानसभा में मिले विस्फोटक को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। आगरा की फोरेंसिक लैब ने कहा कि विधानसभा में जो संदिग्ध पाउडर मिला था, वह विस्फोटक पीईटीएन नहीं है। हालांक उत्तर प्रदेश सरकार इस टेस्ट रिपोर्ट को मानने से इनकार कर रही है। सरकार का कहना है कि पाउडर को जांच के लिए  आगरा नहीं भेजा गया था, क्योंकि आगरा लैब में जांच के लिए मशीन उपलब्ध नहीं है। सरकार का कहना है कि लखनऊ की फॉरेंसिक साइंस लैब ने 14 जुलाई को की गई शुरुआती जांच के बाद संदिग्ध पाउडर में PETN विस्फोटक मिलने की पुष्टि की थी।

ये भी पढ़ें— यूपी विधानसभा में नेता विपक्ष की कुर्सी के पास मिला घातक विस्फोटक, आतंकी करते हैं इस PETN विस...

आगरा फोेरेंसिक लैब के डिप्टी डायरेक्टर एके मित्तल की अगुवाई में इस पाउडर की जांच हुई है।  लैब रिपोर्ट के मुताबिक, पाउडर में किसी भी विस्फोटक के कण नहीं मिले हैं. इस जांच टीम में विस्फोटक जांच के एक्सपर्ट भी शामिल थे। आगरा लैब के एक अधिकारी ने बताया कि अगर आगरा के अलावा और कोई भी लैब इसकी जांच करती है तो उसे भी यह पता चलेगा कि वो पीईटीएन का पाउडर नहीं है। प्रशासन के अधिकारियों ने हैदराबाद की एक लैब में भी इसके सैंपल भेजे थे, उसमें भी यही पता चला है कि वो पाउडर मैग्नेशियम सलफेट है। जो बिल्कुल भी खतरनाक नहीं है।


ये भी पढ़ें— इन्फोसिस के Ex-chairman  ने अपने पद से इस्तीफा देने को बताया बड़ी भूल

बता दें कि उत्तर प्रदेश विधानसभा में 12 जुलाई को विधायक की कुर्सी के नीचे संदिग्ध पाउडर मिला था, ​जिसके बाद हड़कंप मच गया था। सीएम योगी आदित्यनाथ ने इसे आतंकी साजिश करार देते हुए इसकी जांच एनआईए से कराने की मांग की थी। फिलहाल एनआईए और यूपी एटीएस इस मामले की जांच कर रही हैं।

 

.

Todays Beets: