Friday, October 20, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

उत्तर प्रदेश विधानसभा में मिलने वाला संदिग्घ पाउडर विस्फोटक नहीं, आगरा लैब ने किया खुलासा, सरकार का इनकार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तर प्रदेश विधानसभा में मिलने वाला संदिग्घ पाउडर विस्फोटक नहीं, आगरा लैब ने किया खुलासा, सरकार का इनकार

लखनऊ।

उत्तर प्रदेश विधानसभा में मिले विस्फोटक को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। आगरा की फोरेंसिक लैब ने कहा कि विधानसभा में जो संदिग्ध पाउडर मिला था, वह विस्फोटक पीईटीएन नहीं है। हालांक उत्तर प्रदेश सरकार इस टेस्ट रिपोर्ट को मानने से इनकार कर रही है। सरकार का कहना है कि पाउडर को जांच के लिए  आगरा नहीं भेजा गया था, क्योंकि आगरा लैब में जांच के लिए मशीन उपलब्ध नहीं है। सरकार का कहना है कि लखनऊ की फॉरेंसिक साइंस लैब ने 14 जुलाई को की गई शुरुआती जांच के बाद संदिग्ध पाउडर में PETN विस्फोटक मिलने की पुष्टि की थी।

ये भी पढ़ें— यूपी विधानसभा में नेता विपक्ष की कुर्सी के पास मिला घातक विस्फोटक, आतंकी करते हैं इस PETN विस...

आगरा फोेरेंसिक लैब के डिप्टी डायरेक्टर एके मित्तल की अगुवाई में इस पाउडर की जांच हुई है।  लैब रिपोर्ट के मुताबिक, पाउडर में किसी भी विस्फोटक के कण नहीं मिले हैं. इस जांच टीम में विस्फोटक जांच के एक्सपर्ट भी शामिल थे। आगरा लैब के एक अधिकारी ने बताया कि अगर आगरा के अलावा और कोई भी लैब इसकी जांच करती है तो उसे भी यह पता चलेगा कि वो पीईटीएन का पाउडर नहीं है। प्रशासन के अधिकारियों ने हैदराबाद की एक लैब में भी इसके सैंपल भेजे थे, उसमें भी यही पता चला है कि वो पाउडर मैग्नेशियम सलफेट है। जो बिल्कुल भी खतरनाक नहीं है।


ये भी पढ़ें— इन्फोसिस के Ex-chairman  ने अपने पद से इस्तीफा देने को बताया बड़ी भूल

बता दें कि उत्तर प्रदेश विधानसभा में 12 जुलाई को विधायक की कुर्सी के नीचे संदिग्ध पाउडर मिला था, ​जिसके बाद हड़कंप मच गया था। सीएम योगी आदित्यनाथ ने इसे आतंकी साजिश करार देते हुए इसकी जांच एनआईए से कराने की मांग की थी। फिलहाल एनआईए और यूपी एटीएस इस मामले की जांच कर रही हैं।

 

.

Todays Beets: