Sunday, January 20, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

लोहिया ट्रस्ट मीटिंग का अखिलेश गुट ने किया बहिष्कार, चाचा-भतीजा में शह-मात का खेल जारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लोहिया ट्रस्ट मीटिंग का अखिलेश गुट ने किया बहिष्कार, चाचा-भतीजा में शह-मात का खेल जारी

लखनऊ। समाजवादी पार्टी में चाचा-भतीजा के बीच मचा घमासान अभी तक शांत होता नजर नहीं आ रहा है। लखनऊ में समाजवादी संरक्षक ने लोहिया ट्रस्ट की बैठक बुलाई है जिसका सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और उनके समर्थकों ने बहिष्कार कर दिया है। ऐसे में समाजवादी कुनबे में ‘आॅल इज वेल’ अभी भी नहीं है। मुलायम सिंह और शिवपाल यादव दोनों इस मीटिंग में शामिल हुए हैं लेकिन अखिलेश और उनके गुट के रामगोपाल यादव, आजम खान, धर्मेंद्र यादव और बलराम यादव इस बैठक में नहीं शामिल हुए हैं। ऐसे में रिश्तों में तल्खी अभी भी साफ नजर आ रही है। 

अखिलेश गुट नहीं हुआ शामिल

गौरतलब है कि मुलायम के अलावा शिवपाल सिंह यादव, अखिलेश यादव और रामगोपाल भी लोहिया ट्रस्ट के सदस्य हैं। यहां यह भी गौर करने वाली बात है कि इसी साल अगस्त में मुलायम ने लोहिया ट्रस्ट की बैठक ली थी उस मीटिंग में भी अखिलेश और राम गोपाल यादव शामिल नहीं हुए थे। इसके बाद सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने लोहिया ट्रस्ट कार्यालय में हुई बैठक में बड़ा फैसला लेते हुए अखिलेश के करीबी चार सदस्यों को ट्रस्ट से बेदखल कर दिया था। 

ये भी पढ़ें - एसएम कृष्णा के दामाद के 20 ठिकानों पर आयकर विभाग का छापा, ‘केफे काॅफी डे’ के हैं मालिक

इन्हें हटाया गया

नेताजी ने ट्रस्ट से जिन सदस्यों को हटाया है उनमें राम गोविंद चैधरी, ऊषा वर्मा, अशोक शाक्य और अहमद हसन हैं। ये सभी सदस्य अखिलेश यादव के करीबी हैं। सपा संरक्षक मुलायम सिंह ने इन चार सदस्यों की जगह शिवपाल के चार करीबियों को सदस्य बनाया इनमें दीपक मिश्रा, राम नरेश यादव,राम सेवक यादव और राजेश यादव शामिल हैं। अखिलेश और रामगोपाल के ट्रस्ट की मीटिंग में शामिल न होने को लेकर शिवपाल ने कहा कि सूचना सभी को दे दी गई थी लेकिन कुछ कारणों से वे नहीं आ पाए होंगे। अखिलेश यादव को ट्रस्ट का अध्यक्ष बनाने के सवाल को शिवपाल ने सिरे से नकार दिया और कहा कि नेताजी अध्यक्ष हैं और हम उनके साथ लोगों को एकजुट करने का काम कर रहे हैं।  


 

 

 

 

Todays Beets: