Monday, December 18, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

आनंदपाल एनकाउंटर मामला : नागौर में भारी तनाव, 20 पुलिसकर्मी घायल, चार जिलों में धारा 144 लागू

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आनंदपाल एनकाउंटर मामला : नागौर में भारी तनाव, 20 पुलिसकर्मी घायल, चार जिलों में धारा 144 लागू

जयपुर।

राजस्थान के कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल एनकाउंटर मामला शांत होने का नाम ही नहीं ले रहा है। इस मामले को लेकर राजस्थान में बवाल मचा हुआ है। बुधवार को आनंदपाल को श्रद्धांजलि देने के लिए राजपूत समाज के 50 हजार लोग नागौर जिले में एकत्रित हुए थे। इस दौरान पुलिस के साथ उनकी झड़प हो गई और रात में अचानक ये लोग उग्र हो उठे और पुलिस वाहनों में  आग लगा दी। हालात को देखते हुए नागौर, चुरू, सीकर और बीकानेर में धारा 144 लागू कर दी गई है तथा इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई है। वहीं बुधवार को एनकाउंटर के 18वें दिन भी आनंदपाल का अंतिम संस्कार नहीं हो सका। अंतिम संस्कार को लेकर प्रशासन और आनंदपाल के परिजनों के बीच सहमति नहीं बन पाई।

ये भी पढ़ें— अपराधियों के चुनाव लड़ने पर रोक लगाने वाली याचिका पर चुनाव आयोग पर भड़का सुप्रीम कोर्ट, पूछा अपराधियों के खिलाफ है या नहीं

बता दें कि राजस्थान के कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल को पुलिस ने 24 जून को मुठभेड़ में मार गिराया था। तब से ही राजस्थान में इसे लेकर तनाव की स्थिति बनी हुई है। राजपूत समाज के लोग और आनंदपाल के परिजन इस एनकाउंटर को फर्जी बता रहे हैं और सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं। राजपूत समाज ने घोषणा की है कि अगर सीबीआइ जांच की मांग नहीं मानी गई तो आनंदपाल का शव लेकर वे राजधानी जयपुर कूच करेंगे।


ये भी पढ़ें— पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पर भ्रष्टाचार का मुकदमा चलाने की सिफारिश, जांच में मिली घोषित आय से ज्यादा संपत्ति

बुधवार को इस मामले को लेकर भड़की हिंसा में 20 पुलिसकर्मी घायल हो गए, जबकि भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस की तरफ से की गई फायरिंग में एक की मौत हो गई। मामले में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने मंत्रियों की आपात बैठक बुलाई है। उग्र राजपूत समाज के युवकों ने डेगाना-रतनगढ़ रेल पटरी पर कब्जा कर लिया। इस कारण दो ट्रेनों को रोकना पड़ा। नागौर-अजमेर राजमार्ग पर भी राजपूतों ने कब्जा कर रखा है। उग्र लोगों पर काबू पाने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़ने के साथ ही लाठीचार्ज भी किया। प्रदर्शनकारियों ने डिडवाना के पास रेलवे ट्रैक से फिशप्लेट उखाड़ने की भी कोशिश की।

 

Todays Beets: