Sunday, March 24, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

छत्तीसगढ़ के किसानों को बघेल सरकार ने दिया एक और तोहफा, टाटा स्टील के लिए अधिग्रहीत जमीन होगी वापस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
छत्तीसगढ़ के किसानों को बघेल सरकार ने दिया एक और तोहफा, टाटा स्टील के लिए अधिग्रहीत जमीन होगी वापस

रायपुर। छत्तीसगढ़ की नई कांग्रेस सरकार ने किसानों को एक और बड़ी सौगात दी है। सरकार ने बस्तर के किसानों को वह अधिग्रहीत जमीन वापस करने की घोषणा की है जो उसने टाटा स्टील परियोजना के लिए आदिवासी किसानों से खरीदी थी। खबरों के अनुसार इसकी प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है। बता दें कि इससे पहले मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही भूपेश बघेल किसानों के कर्जमाफी का ऐलान किया था। गौर करने वाली बात है कि सीएम बघेल ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि प्रक्रिया शुरू कर दें और कैबिनेट की अगली बैठक से पहले एक एक्शन प्लान जमा करवाएं।

गौरतलब है कि मंगलवार यानी की आज छत्तीसगढ़ के मंत्रिमंडल का आज शपथग्रहण समारोह होने वाला है। बता दें कि कांग्रेस के द्वारा अपने चुनावी घोषणापत्र में यह वादा किया गया था कि वह सरकारी परियोजनाओं के लिए किसानों की ली गई जमीन पर अगर 5 सालों तक काम शुरू नहीं हुआ तो उसे मालिकों को वापस कर दी जाएगी।


ये भी पढ़ें- काबुल में सरकारी कार्यालय परिसर में आतंकी हमला, 29 लोगों की मौत 20 से ज्यादा घायल

यहां बता दें कि साल 2005 में तत्कालीन भाजपा सरकार ने टाटा स्टील के साथ बस्तर जिले के लोहांडिगुडा में 19,500 करोड़ रुपये के मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैडिंग (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए थे। सरकार ने टाटा स्टील का प्लांट लगाने के लिए आदिवासियों से जमीन ली थी। सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इसे सरकार की शोषण नीति बताया था। आपको बता दें कि बड़ी संख्या में किसानों ने अपनी जमीन का मुआवजा नहीं लिया था। साल 2016 में टाटा स्टील ने खुद को इस परियोजना से अलग कर लिया। 

Todays Beets: