Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

छत्तीसगढ़ के किसानों को बघेल सरकार ने दिया एक और तोहफा, टाटा स्टील के लिए अधिग्रहीत जमीन होगी वापस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
छत्तीसगढ़ के किसानों को बघेल सरकार ने दिया एक और तोहफा, टाटा स्टील के लिए अधिग्रहीत जमीन होगी वापस

रायपुर। छत्तीसगढ़ की नई कांग्रेस सरकार ने किसानों को एक और बड़ी सौगात दी है। सरकार ने बस्तर के किसानों को वह अधिग्रहीत जमीन वापस करने की घोषणा की है जो उसने टाटा स्टील परियोजना के लिए आदिवासी किसानों से खरीदी थी। खबरों के अनुसार इसकी प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है। बता दें कि इससे पहले मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही भूपेश बघेल किसानों के कर्जमाफी का ऐलान किया था। गौर करने वाली बात है कि सीएम बघेल ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि प्रक्रिया शुरू कर दें और कैबिनेट की अगली बैठक से पहले एक एक्शन प्लान जमा करवाएं।

गौरतलब है कि मंगलवार यानी की आज छत्तीसगढ़ के मंत्रिमंडल का आज शपथग्रहण समारोह होने वाला है। बता दें कि कांग्रेस के द्वारा अपने चुनावी घोषणापत्र में यह वादा किया गया था कि वह सरकारी परियोजनाओं के लिए किसानों की ली गई जमीन पर अगर 5 सालों तक काम शुरू नहीं हुआ तो उसे मालिकों को वापस कर दी जाएगी।


ये भी पढ़ें- काबुल में सरकारी कार्यालय परिसर में आतंकी हमला, 29 लोगों की मौत 20 से ज्यादा घायल

यहां बता दें कि साल 2005 में तत्कालीन भाजपा सरकार ने टाटा स्टील के साथ बस्तर जिले के लोहांडिगुडा में 19,500 करोड़ रुपये के मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैडिंग (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए थे। सरकार ने टाटा स्टील का प्लांट लगाने के लिए आदिवासियों से जमीन ली थी। सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इसे सरकार की शोषण नीति बताया था। आपको बता दें कि बड़ी संख्या में किसानों ने अपनी जमीन का मुआवजा नहीं लिया था। साल 2016 में टाटा स्टील ने खुद को इस परियोजना से अलग कर लिया। 

Todays Beets: