Tuesday, December 11, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

करंट लगाकर समलैंगिकों का इलाज कर रहा दिल्ली का डॉक्टर , कोर्ट बोली- हाजिर हो  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
करंट लगाकर समलैंगिकों का इलाज कर रहा दिल्ली का डॉक्टर , कोर्ट बोली- हाजिर हो  

नई दिल्ली । देश की राजधानी में एक डॉक्टर समलैंगिक लोगों का इलाज करंट लगाकर कर रहा था। हालांकि दिल्ली चिकित्सा परिषद  ( DMC )  ने इस डॉक्टर की प्रैक्टिस पर रोक लगा दी थी लेकिन बावजूद इसके उसने समलौंगिको का अपने अनोखे अंदाज से इलाज करना बंद नहीं किया। इस सब के बाद अब डीएमसी की शिकायत पर मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अभिलाष मल्होत्रा ने डॉ. पीके गुप्ता को कोर्ट में हाजिर होने का आदेश दिया है। कोर्ट का कहना है कि जिस तरीके से डॉक्टर कुछ विशेष लोगों का इलाज कर रहा है, उसका चिकित्सा विज्ञान में कोई ब्योरा नहीं है। न ही उसका इलाज का तरीका स्वीकृत और मान्य ।

शरद यादव ने अपनी ' गंदी बात ' के लिए CM वसुंधरा राजे से मांगी माफी

बता दें कि दिल्ली में डॉ . पीके गुप्ता समलैंगिक लोगों का इलाज उन्हें करंट देकर करता है। डॉक्टर का मानना है कि समलैंगिकता एक आनुवांशिक मानसिक विकृति है और इससे ग्रसित लोगों का इलाज करंट लगाने से किया जा सकता है। हालांकि उनके इस दावे और इलाज करने पर दिल्ली चिकित्सा परिषद ने उनकी प्रैक्टिस पर रोक लगा दी थी, जिसके बावजूद वह लोगों का इलाज कर रहे हैं। 


राॅबर्ट वाड्रा के करीबी पर ईडी के छापे से भड़की कांग्रेस, अधिकारियों को दी मौसम के बदलने की चेतावनी 

इस सब के विरोध में डीएमसी ने कोर्ट में शिकायत दर्ज कराई थी, जिसपर मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अभिलाष मल्होत्रा ने अब डॉक्टर को कोर्ट में पेश होने के लिए कहा है। डीएमसी ने अपनी शिकायत में दावा किया है कि उक्त डॉक्टर समलैंगिक लोगों का इलाज हार्मोनल के साथ ही करंट वाली थैरेपी से करता है। इतना ही नहीं इक्त डॉक्टर 15 मिनट की बातचीत के लिए लोगों से 4 से 5 हजार रूपये भी वसूलता है, जिसके बाद वह मनोवैज्ञानिक और हार्मोनल तरीके से इलाज करता है ।

बुलंदशहर कांडः इंस्पेक्टर सुबोध सिंह का हत्यारा फौजी गिरफ्तार, एसटीएफ करेगी खुलासा

Todays Beets: