Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

करंट लगाकर समलैंगिकों का इलाज कर रहा दिल्ली का डॉक्टर , कोर्ट बोली- हाजिर हो  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
करंट लगाकर समलैंगिकों का इलाज कर रहा दिल्ली का डॉक्टर , कोर्ट बोली- हाजिर हो  

नई दिल्ली । देश की राजधानी में एक डॉक्टर समलैंगिक लोगों का इलाज करंट लगाकर कर रहा था। हालांकि दिल्ली चिकित्सा परिषद  ( DMC )  ने इस डॉक्टर की प्रैक्टिस पर रोक लगा दी थी लेकिन बावजूद इसके उसने समलौंगिको का अपने अनोखे अंदाज से इलाज करना बंद नहीं किया। इस सब के बाद अब डीएमसी की शिकायत पर मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अभिलाष मल्होत्रा ने डॉ. पीके गुप्ता को कोर्ट में हाजिर होने का आदेश दिया है। कोर्ट का कहना है कि जिस तरीके से डॉक्टर कुछ विशेष लोगों का इलाज कर रहा है, उसका चिकित्सा विज्ञान में कोई ब्योरा नहीं है। न ही उसका इलाज का तरीका स्वीकृत और मान्य ।

शरद यादव ने अपनी ' गंदी बात ' के लिए CM वसुंधरा राजे से मांगी माफी

बता दें कि दिल्ली में डॉ . पीके गुप्ता समलैंगिक लोगों का इलाज उन्हें करंट देकर करता है। डॉक्टर का मानना है कि समलैंगिकता एक आनुवांशिक मानसिक विकृति है और इससे ग्रसित लोगों का इलाज करंट लगाने से किया जा सकता है। हालांकि उनके इस दावे और इलाज करने पर दिल्ली चिकित्सा परिषद ने उनकी प्रैक्टिस पर रोक लगा दी थी, जिसके बावजूद वह लोगों का इलाज कर रहे हैं। 


राॅबर्ट वाड्रा के करीबी पर ईडी के छापे से भड़की कांग्रेस, अधिकारियों को दी मौसम के बदलने की चेतावनी 

इस सब के विरोध में डीएमसी ने कोर्ट में शिकायत दर्ज कराई थी, जिसपर मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अभिलाष मल्होत्रा ने अब डॉक्टर को कोर्ट में पेश होने के लिए कहा है। डीएमसी ने अपनी शिकायत में दावा किया है कि उक्त डॉक्टर समलैंगिक लोगों का इलाज हार्मोनल के साथ ही करंट वाली थैरेपी से करता है। इतना ही नहीं इक्त डॉक्टर 15 मिनट की बातचीत के लिए लोगों से 4 से 5 हजार रूपये भी वसूलता है, जिसके बाद वह मनोवैज्ञानिक और हार्मोनल तरीके से इलाज करता है ।

बुलंदशहर कांडः इंस्पेक्टर सुबोध सिंह का हत्यारा फौजी गिरफ्तार, एसटीएफ करेगी खुलासा

Todays Beets: