Thursday, August 24, 2017

Breaking News

   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||   SC में आर्टिकल 370 को हटाने के लिए याचिका दायर, कोर्ट ने दिया केंद्र को नोटिस    ||   राज्यसभा में सिब्बल बोले- छप रहे 1 नंबर के दो नोट, सदी का सबसे बड़ा घोटाला    ||   नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल का आज होगा विस्तार, शपथ ले सकते हैं 16 मंत्री    ||   सपा को तगड़ा झटका, बुक्कल नवाब समेत 2 MLC का इस्तीफा, की मोदी-योगी की तारीफ    ||   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||

अनपढ़ मां-बाप की बेटी ने किया कमाल, कैंसर स्पेशलिस्ट बन किया नाम रोशन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अनपढ़ मां-बाप की बेटी ने किया कमाल, कैंसर स्पेशलिस्ट बन किया नाम रोशन

चंडीगढ़। कभी हाॅरर किलिंग तो कभी आॅनर किलिंग के लिए मशहूर रहने वाले हरियाणा की बेटियों ने दुनिया भर में अपना नाम रोशन किया है। शायद इसी बात को तस्दीक यह डायलाॅग भी करता है कि ‘म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के’। इस बात को हरियाणा की ही एक और बेटी ने चरितार्थ कर दिखाया है। हैरानी की बात यह है कि इसके मां-बाप दोनों ही अनपढ़ हैं। इसके बावजूद सीमा ने छोटी सी उम्र में कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी में स्पेशलाइजेशन किया और उसका चयन देश के प्रसिद्ध मेडिकल काॅलेज में बतौर कैंसर रोग विशेषज्ञ हुआ है।  आइए जानते हैं इसके बारे में। 

सीमा ने पेश की मिसाल

ये हैं हरियाणा के फतेहाबाद जिले में टोहाना की रहने वाली सीमा पूनिया। इनका चयन देश के सुप्रसिद्ध सरकारी मेडिकल कॉलेज में कैंसर रोग विशेषज्ञ के तौर पर हुआ है। माता-पिता के अनपढ़ होने के बावजूद सीमा ने यह उपलब्धि हासिल कर न केवल उनका बल्कि देश का नाम भी रोशन किया है। आपको बता दें कि 23 वर्षीय सीमा पूनिया के पिता कपूर सिंह खेती करते हैं और मां शीला गृहिणी हैं। दोनों ही पढ़े-लिखे नहीं है, लेकिन उनका सपना था कि उनके बच्चे पढ़ लिखकर उनका नाम रोशन करे। सीमा ने न सिर्फ उनके सपनों को जिया बल्कि उसे पूरा भी कर दिखाया।


ये भी पढ़ें - गहरी खाई और नदियों में गिरे वाहनों को चुम्बक के जरिए खोजेगी पुलिस, राहत और बचाव में भी मिलेगी मदद

बेटी ने किया कमाल

गौरतलब है कि सीमा पूनिया ने जोधपुर के कैंसर रोग विशेषज्ञ कॉलेज एस.एन. मेडिकल कॉलेज की ब्रांच में मेडिकल फिजिस्ट के पद पर भर्ती के लिए 20 जुलाई को साक्षात्कार दिया था। इसमें कुल 6 लोगों ने भाग लिया था। 3 छात्र मुंबई से आए थे जबकि 2 मथुरा से आए थे। इन सभी को पछाड़कर सीमा ने यह पद हासिल कर लिया। सीमा के माता-पिता उसकी इस उपलब्धि से बेहद खुश हैं।  सीमा की मां शीला देवी ने बताया कि आज के समय में लोग बेटियों को गर्भ में ही मार देते हैं। वे उन्हें संदेश देना चाहते हैं कि बेटियां किसी भी क्षेत्र में बेटों से पीछे नहीं है। आपको बता दें कि बारहवीं के बाद सीमा ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से बीएससी फिजिक्स में ऑनर्स किया। सीमा ने पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ से मेडिकल फिजिक्स में एमएससी की है।

Todays Beets: