Monday, December 18, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

अनपढ़ मां-बाप की बेटी ने किया कमाल, कैंसर स्पेशलिस्ट बन किया नाम रोशन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अनपढ़ मां-बाप की बेटी ने किया कमाल, कैंसर स्पेशलिस्ट बन किया नाम रोशन

चंडीगढ़। कभी हाॅरर किलिंग तो कभी आॅनर किलिंग के लिए मशहूर रहने वाले हरियाणा की बेटियों ने दुनिया भर में अपना नाम रोशन किया है। शायद इसी बात को तस्दीक यह डायलाॅग भी करता है कि ‘म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के’। इस बात को हरियाणा की ही एक और बेटी ने चरितार्थ कर दिखाया है। हैरानी की बात यह है कि इसके मां-बाप दोनों ही अनपढ़ हैं। इसके बावजूद सीमा ने छोटी सी उम्र में कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी में स्पेशलाइजेशन किया और उसका चयन देश के प्रसिद्ध मेडिकल काॅलेज में बतौर कैंसर रोग विशेषज्ञ हुआ है।  आइए जानते हैं इसके बारे में। 

सीमा ने पेश की मिसाल

ये हैं हरियाणा के फतेहाबाद जिले में टोहाना की रहने वाली सीमा पूनिया। इनका चयन देश के सुप्रसिद्ध सरकारी मेडिकल कॉलेज में कैंसर रोग विशेषज्ञ के तौर पर हुआ है। माता-पिता के अनपढ़ होने के बावजूद सीमा ने यह उपलब्धि हासिल कर न केवल उनका बल्कि देश का नाम भी रोशन किया है। आपको बता दें कि 23 वर्षीय सीमा पूनिया के पिता कपूर सिंह खेती करते हैं और मां शीला गृहिणी हैं। दोनों ही पढ़े-लिखे नहीं है, लेकिन उनका सपना था कि उनके बच्चे पढ़ लिखकर उनका नाम रोशन करे। सीमा ने न सिर्फ उनके सपनों को जिया बल्कि उसे पूरा भी कर दिखाया।


ये भी पढ़ें - गहरी खाई और नदियों में गिरे वाहनों को चुम्बक के जरिए खोजेगी पुलिस, राहत और बचाव में भी मिलेगी मदद

बेटी ने किया कमाल

गौरतलब है कि सीमा पूनिया ने जोधपुर के कैंसर रोग विशेषज्ञ कॉलेज एस.एन. मेडिकल कॉलेज की ब्रांच में मेडिकल फिजिस्ट के पद पर भर्ती के लिए 20 जुलाई को साक्षात्कार दिया था। इसमें कुल 6 लोगों ने भाग लिया था। 3 छात्र मुंबई से आए थे जबकि 2 मथुरा से आए थे। इन सभी को पछाड़कर सीमा ने यह पद हासिल कर लिया। सीमा के माता-पिता उसकी इस उपलब्धि से बेहद खुश हैं।  सीमा की मां शीला देवी ने बताया कि आज के समय में लोग बेटियों को गर्भ में ही मार देते हैं। वे उन्हें संदेश देना चाहते हैं कि बेटियां किसी भी क्षेत्र में बेटों से पीछे नहीं है। आपको बता दें कि बारहवीं के बाद सीमा ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से बीएससी फिजिक्स में ऑनर्स किया। सीमा ने पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ से मेडिकल फिजिक्स में एमएससी की है।

Todays Beets: