Thursday, April 19, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

किराया वृद्धि मुद्दे पर मंगू सिंह पर होगी कार्रवाई! दिल्ली सरकार ने पत्र लिख दी चेतावनी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
किराया वृद्धि मुद्दे पर मंगू सिंह पर होगी कार्रवाई! दिल्ली सरकार ने पत्र लिख दी चेतावनी

नई दिल्ली । दिल्ली मेट्रो के किराये को लेकर दिल्ली सरकार और मेट्रो चीफ मंगू सिंह के बीच तकरार बढ़ती नजर आ रही है। दिल्ली सरकार के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने मंगू सिंह को चेतावनी भरे एक पत्र में लिखकर साफ किया कि अगर वह  डीएमआरसी बोर्ड की बैठक में दिल्ली सरकार के रुख को सही तरीके से पेश नहीं करेंगे तो सरकार को मौजूदा नियम-कायदों के मुताबिक उनके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। 

बता दें कि दिल्ली सरकार मेट्रो किराये में वृद्धि के खिलाफ है, जबकि दिल्ली मेट्रो के एमडी मंगू सिंह साफ कर चुके हैं कि यह किराया वृद्धि होकर रहेगी क्योंकि किराया वृद्धि का फैसला पहले ही लिया जा चुका है। इस सब के बीच अब दिल्ली सरकार के परिवहन मंत्री ने मंगू सिंह को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्हें चुनौती देते हुए कहा कि अगर वह सरकार के रुक को प्रमुखता से नहीं रखेंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। डीएमआरसी बोर्ड में दिल्ली सरकार पांच निदेशक के चुनती है। बाद में केंद्र सरकार से विचार-विमर्श करके आपको मेट्रो का एमडी पद पर चयन किया गया है। सरकार की ओर से नामित किए जाने वाले एमडी को दिल्ली सरकार के रुख का समर्थन करना ही होता है। लेटर में कहा गया है कि अगर डीएमआरसी बोर्ड की मीटिंग में दिल्ली सरकार के स्टैंड को ठीक तरीके से नहीं रखा जाएगा तो सरकार को मौजूदा नियम- कायदों के मुताबिक कार्रवाई करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। 


सरकार का कहना है कि अगर 10 अक्तूबर से किराये में वृद्धि फेयर फिक्सेशन कमिटी की सिफारिशों के खिलाफ है। कमिटी की सिफारिशों के मुताबिक किराया बढ़ोतरी में कम से कम एक साल का गैप होना चाहिए और इस साल पांच महीने के अंतराल पर दूसरी बार किराये में बढ़ोतरी की जा रही है और दिल्ली सरकार इसके सख्त खिलाफ है। 

Todays Beets: