Wednesday, April 24, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

मध्यप्रदेश में चुनाव आयोग की नेताओं पर सख्ती, पंडालों में ताम-झाम के साथ जाने पर लगाई रोक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मध्यप्रदेश में चुनाव आयोग की नेताओं पर सख्ती, पंडालों में ताम-झाम के साथ जाने पर लगाई रोक

भोपाल। चुनाव आयोग ने 5 राज्यों में होने वाले चुनाव के मद्देनजर नेताओं पर सख्ती बढ़ा दी है। आयोग ने त्योहारों, गरबा कार्यक्रम और यज्ञ एवं भंडारे के दौरान नेताजी को पूरे ताम-झाम के साथ जाने से मना कर दिया है। आयोग का मानना है कि ऐसे मौके का इस्तेमाल नेता वोटरों को लुभाने के लिए करते हैं। बता दें कि मध्यप्रदेश में ही कई ऐसी जगहें हैं जहां नेता अपने होर्डिंग और बैनर के बीच में ही माता की स्थापना करवाते हैं। नेताओं द्वारा ऐसा करने को आचार संहिता का उल्लंघन माना जाएगा।

गौरतलब है कि चुनाव आयोग के द्वारा 5 राज्यों में होने वाले चुनावों की तारीखों का ऐलान किया जा चुका है। ऐसे में सभी राज्यों में आचार संहिता भी लागू हो चुकी है। दुर्गापूजा के पंडालों की आड़ में नेता अपने बैनर और होर्डिंग लगवाकर मतदाताओं को लुभाने का पूरा प्रयास करते हैं। इस बार राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने नेताओं को पूरे तामझाम के साथ पंडालों में जाने के बजाय एक साधारण व्यक्ति की तरह पूजा करने और प्रसाद लेने की हिदायत दी है। 

ये भी पढ़ें - छत्तीसगढ़ में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, 16 नक्सलियों को किया गिरफ्तार


यहां बता दें कि त्योहारों का मौका नेताओं के लिए लोगों को आकर्षित करने के लिए सबसे अच्छा माना जाता है ऐसे में निर्वाचन अधिकारी के द्वारा दी गई हिदायत से उन नेताओं की रणनीति पर पानी फिर गया है जो इसे मौके के तौर पर भुनाने की जुगत में जुटे हुए थे। बताया जा रहा है कि सिर्फ मध्यप्रदेश में ही करीब 500 से ज्यादा ऐसी जगहें हैं जहां नेता अपने बैनर और होर्डिंग के बीच माता की स्थापना कर अपना प्रचार करवाते हैं। 

 

Todays Beets: