Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

करनाल में बिजली चोरी की शिकायत पर कार्रवाई करने गई टीम को ग्राणीणों ने बनाया बंधक, पुलिस देखती रही

अंग्वाल संवाददाता
करनाल में बिजली चोरी की शिकायत पर कार्रवाई करने गई टीम को ग्राणीणों ने बनाया बंधक, पुलिस देखती रही

करनाल । हरियाणा के करनाल स्थित शेखपुरा गांव में सोमवार सुबह बिजली विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों को बिजली चोरी करने वालों के यहां छापेमारी करना भारी पड़ गया। छापा मारने गई बिजली विभाग की टीम को ग्राणीमों ने बंधक बना लिया। हालांकि जिस कमरे में विभाग के कर्मचारियों को बंधक बनाया गया , उसके बाहर पुलिस वाले भी खड़े दिखे, लेकिन ग्रामीणों की भारी संख्या और गुस्से को देखते हुए वह उन्हें बाहर नहीं निकाल पाए। इस दौरान ग्रामीणों ने कहा कि एक तो पहले से ही क्षेत्र में बिजली आती नहीं है और उसपर विभाग के कर्मचारी छापेमारी की कार्रवाई को अंजाम देने के लिए घरों की छपों पर कूद रहे हैं। खबर है कि गुस्साए ग्रामीणों के डर के मारे अब विभाग के कर्मचारियों ने कमरे को अंदर से बंद कर लिया है ताकि अब उनके साथ कोई मारपीट न करे। वहीं ग्राणीमों का कहना है कि विभाग के लोग खुद ही अब कमरे से बाहर नहीं आ रहे हैं। 

बता दें कि तड़के बिजली विभाग की एक टीम शेखपुरा गांव में बिजली चोरी की शिकायतों पर छापेमारी करने पहुंची। इस दौरान गांव वालों को भनक लग गई और भारी संख्या में एकत्र हुए ग्रामीणों ने इन बिजली विभाग के कर्मचारियों को बंधक बना लिया। इस दौरान ग्रामीण काफी गुस्से मे भी थे। इन लोगों का कहना था कि गांव में पहले ही बिजली नहीं आती है परसों रात को भी गांव में बिजली नहीं आई । बावजूद इसके बिजलीकर्मी घरों की छतों में कूदकर घरों में छापा मारने पहुंच जाते हैं । 


बिजलाी विभाग के कर्मचारियों को चौपाल के कमरे में बंद किया गया, हालांकि बाहर पुलिसकर्मी मौजूद हैं लेकिन ग्रामीणों के गुस्से और उनकी संख्या को देखते हुए वो मूकदर्शक बने रहे। 

वहीं विभाग के कर्मचारियों का कहना है कि वह बिजली चोरी की सूचना मिलने पर छापेमारी के लिए पहुंचे थे लेकिन ग्राणीमों ने उनके बंधक बना लिया। उनके साथ मारपीट की गई और उनके पैसे-मोबाइल भी छीन लिए गए। उनके साथ मारपीट की गई और बाद में कमरे में बंद कर दिया गया। बड़ी मुश्किल से आला अधिकारियों को घटना की जानकारी दी गई है। . उनसे उनके फोन भी छीन लिए गए. जैसे तैसे करके अधिकारियों को फोन करके मामले की सूचना दी गई ।

Todays Beets: