Friday, August 17, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

आॅनलाइन जानकारी नहीं देने वाले मदरसों की मान्यता होगी रद्द, फर्जीवाड़े पर लगाम लगाने की कवायद तेज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आॅनलाइन जानकारी नहीं देने वाले मदरसों की मान्यता होगी रद्द, फर्जीवाड़े पर लगाम लगाने की कवायद तेज

लखनऊ। उत्तरप्रदेश सरकार ने फर्जी तरीके से चलने वाले मदरसों पर अपना शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। योगी आदित्यनाथ ने साफ तौर पर कह दिया है कि मदरसा बोर्ड से बिना मान्यता प्राप्त करीब 2500 से ज्यादा मदरसे अगर अपनी जानकारी आॅनलाइन पोर्टल पर दर्ज नहीं कराते हैं तो उनकी मान्यता रद्द कर कार्रवाई की जाएगी।

फर्जीवाड़े पर लगाम लगाने की कवायद

गौरतलब है कि राज्य में बड़े पैमाने पर मदरसों का संचालन किया जा रहा है। उत्तरप्रदेश की शिक्षा परिषद ने मदरसों के नाम पर हो रहे फर्जीवाडे पर लगाम लगाने के लिए एक पोर्टल बनाया है। सभी मदरसों को इस पोर्टल पर अपनी हर जानकारी मुहैया करानी थी। जिन 16461 मदरसों की जानकारी पोर्टल पर मौजूद है उनकी मान्यता बरकरार रहेगी और उन्हें सरकार की तरफ से अनुदान भी दिया जाएगा लेकिन जिन्होंने भी अपनी जानकारी नहीं दी है उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।


ये भी पढ़ें - अखिलेश की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक से शिवपाल रहे नदारद, मुलायम के करीबियों को मिला तोहफा

जानकारी नहीं देने वालों पर होगी कार्रवाई

आपको बता दें कि जानकारी मुहैया न कराने वाले मदरसों की तादाद 2500 से भी ज्यादा है। यहां बता दें कि वेब पोर्टल पर विवरण अपलोड करने वाले इस वेबसाइट पर सभी 19143 मदरसों को अपना विवरण अपलोड करना था। इसमें शिक्षक, अन्य स्टाफ, छात्रों के विवरण के अलावा भवन की फोटो, कक्षा की माप और दूसरी जानकारियां भी शामिल थीं। वेब पोर्टल पर जानकारी देने की तारीख दो बार आगे भी बढ़ाई गई, पहले इसकी अंतिम तिथि 15 सितम्बर थी, जिसे बढ़ाकर 30 सितम्बर और फिर 15 अक्टूबर किया गया इसके बावजूद मात्र 16461 मदरसों ने ही अपनी जानकारी पोर्टल पर दर्ज की है। मदरसा बोर्ड के रजिस्ट्रार राहुल गुप्ता ने कहा कि अब बाकी बचे मदरसों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 

Todays Beets: