Saturday, May 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

राजस्थान में चुनाव से पहले भाजपा को ‘बागी' नेता देंगे चुनौती, 29 अक्टूबर को करेंगे किसान महाहुंकार रैली

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राजस्थान में चुनाव से पहले भाजपा को ‘बागी

जयपुर। राजस्थान में 7 दिसंबर को मतदान किए जाएंगे। राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक उठापटक शुरू हो गई है। भाजपा में नाराज नेताओं की संख्या में इजाफा होता जा रहा है। बाड़मेर से भाजपा के विधायक मानवेन्द्र सिंह के कांग्रेस में शामिल होने की खबर के बाद अब एक और बागी नेता हनुमान बेनीवाल ने 29 अक्टूबर को किसान महाहुंकार रैली कर अपनी ही सरकार के खिलाफ हल्ला बोलने की तैयारी कर ली है। इसी रैली में वे अपनी नई पार्टी का ऐलान भी कर सकते हैं। 

गौरतलब है कि हनुमान बेनीवाल ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर जनता को धोखा देने का आरोप लगाया है। अपनी ही पार्टी की मुख्यमंत्री के खिलाफ आवाज बुलंद करने के लिए अब वे 29 अक्टूबर को जयपुर में किसान महाहुंकार रैली का आयोजन कर रहे हैं। खबरों के अनुसार वे इसी दिन अपनी नई पार्टी का ऐलान भी कर सकते हैं। 


ये भी पढ़ें - मध्यप्रदेश में चुनाव आयोग की नेताओं पर सख्ती, पंडालों में ताम-झाम के साथ जाने पर लगाई रोक

बता दें कि साल 2008 में भाजपा के टिकट पर खींवसर से विधायक चुने गए बेनीवाल की वसुंधरा राजे से नहीं बनी और वह अलग हो गए। साल 2013 में वह निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में जीते। राज्य की राजनीति में बड़ी भागीदारी रखने वाला जाट समुदाय नागौर, सीकर, बीकानेर सहित शेखावटी के कई जिलों की 50 से ज्यादा सीटों में चुनाव परिणामों को प्रभावित कर सकता है। गौर करने वाली बात है कि नागौर में की गई रैली में भारी संख्या में उनके समर्थक जुटे थे। इसके बाद से उन्होंने अब जयपुर में किसान हुंकार महारैली कर सरकार के सामने नई चुनौती पेश करने का मन बना चुके हैं।  

Todays Beets: