Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

राजस्थान में चुनाव से पहले भाजपा को ‘बागी' नेता देंगे चुनौती, 29 अक्टूबर को करेंगे किसान महाहुंकार रैली

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राजस्थान में चुनाव से पहले भाजपा को ‘बागी

जयपुर। राजस्थान में 7 दिसंबर को मतदान किए जाएंगे। राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक उठापटक शुरू हो गई है। भाजपा में नाराज नेताओं की संख्या में इजाफा होता जा रहा है। बाड़मेर से भाजपा के विधायक मानवेन्द्र सिंह के कांग्रेस में शामिल होने की खबर के बाद अब एक और बागी नेता हनुमान बेनीवाल ने 29 अक्टूबर को किसान महाहुंकार रैली कर अपनी ही सरकार के खिलाफ हल्ला बोलने की तैयारी कर ली है। इसी रैली में वे अपनी नई पार्टी का ऐलान भी कर सकते हैं। 

गौरतलब है कि हनुमान बेनीवाल ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर जनता को धोखा देने का आरोप लगाया है। अपनी ही पार्टी की मुख्यमंत्री के खिलाफ आवाज बुलंद करने के लिए अब वे 29 अक्टूबर को जयपुर में किसान महाहुंकार रैली का आयोजन कर रहे हैं। खबरों के अनुसार वे इसी दिन अपनी नई पार्टी का ऐलान भी कर सकते हैं। 


ये भी पढ़ें - मध्यप्रदेश में चुनाव आयोग की नेताओं पर सख्ती, पंडालों में ताम-झाम के साथ जाने पर लगाई रोक

बता दें कि साल 2008 में भाजपा के टिकट पर खींवसर से विधायक चुने गए बेनीवाल की वसुंधरा राजे से नहीं बनी और वह अलग हो गए। साल 2013 में वह निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में जीते। राज्य की राजनीति में बड़ी भागीदारी रखने वाला जाट समुदाय नागौर, सीकर, बीकानेर सहित शेखावटी के कई जिलों की 50 से ज्यादा सीटों में चुनाव परिणामों को प्रभावित कर सकता है। गौर करने वाली बात है कि नागौर में की गई रैली में भारी संख्या में उनके समर्थक जुटे थे। इसके बाद से उन्होंने अब जयपुर में किसान हुंकार महारैली कर सरकार के सामने नई चुनौती पेश करने का मन बना चुके हैं।  

Todays Beets: