Friday, September 22, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

मध्यप्रदेश में दलितों का आरोप ऊंची जाति वालों ने तोड़ दिए उनके शौचालय, बाहर जाने पर देते हैं ​पीटने की धमकी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मध्यप्रदेश में दलितों का आरोप ऊंची जाति वालों ने तोड़ दिए उनके शौचालय, बाहर जाने पर देते हैं ​पीटने की धमकी

छतरपुर।

भारत सरकार जहां स्वच्छ भारत अभियान के तहत हर घर में शौचालय बनवाने पर जोर दे रही है। वहीं मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। जिला मुख्यालय से करीब 50 किलोमीटर दूर बराखेरा गांव में शौचालय को लेकर दो जातियों के बीच तनाव बना हुआ है। दरअसल, गांव की दलित महिलाओं ने स्वर्ण जाति के कुछ लोगों पर उनके शौचालय तोड़ने का आरोप लगाया है।

ये भी पढ़ें— मध्यप्रदेश में बजरंग दल की गुंडागर्दी, थाने पर हमला कर अपने सा​थी को छुड़ाया

इन महिलाओं का कहना है कि उनके शौचालय स्वर्ण जाति के लोगों के घरों के सामने बने हुए थे, इसलिए इन लोगों ने उन्हें तोड़ दिया। इनका यह भी कहना है कि स्वर्ण जाति के लोग उन्हें बाहर शौच के लिए जाने पर पीटने की धमकी देते हैं। ऐसे स्थिति में हम क्या करें। इन महिलाओं ने बताया कि इससे परेशान होकर ये लोग अपने घरों के पीछे मिट्टी के बर्तनों का शौच के लिए इस्तेमाल करने को मजबूर हैं।


ये भी पढ़ें— बच्ची के शव के लिए नहीं मिली एंबुलेंस, पिता कंधे पर उठाकर चल दिए ...

इस मामले में दूसरे पक्ष का कहना है कि इन शौचालयों से सड़क हमेशा गंदी रहती है और आने—जाने का रास्ता नहीं बचता।  इस मामले में जिलाा पंचायत के सीईओ हर्ष दीक्षित ने कहा कि जानकारी मिलने पर एक टीम को जांच के लिए मौके पर भेजा गया है। रिपोर्ट मिलने के बाद प्रतिक्रिया दी जाएगी। खबरें हैं कि अधिकारी मध्यस्थता के जरिए विवाद सुलझाने की भी कोशिश कर रहे हैं।

 

Todays Beets: