Sunday, March 24, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

गर्भवति इलाज के लिए पहुंची थी अस्पताल और स्टाफ ने उसे बना दिया HIV संक्रमित 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गर्भवति इलाज के लिए पहुंची थी अस्पताल और स्टाफ ने उसे बना दिया HIV संक्रमित 

शिवकाशी । एनीमिया की शिकायत लेकर सरकारी अस्पताल में जाना एक गर्भवती महिला को बहुत भारी पड़ गया। इस सरकारी अस्पताल के स्टाफ ने गर्भवति को HIV संक्रमित खून चढ़ा दिया। इसके बाद अचानक जब महिला की तबीयत बिगड़नी शुरू हुई तो स्टाफ को अपनी गलती का पता चला, जिसके बाद अस्पताल प्रशासन में हड़कंप मच गया है। आनन फानन में महिला को एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां उसकी हालात गंभीर बताई जा रही है।  अस्पताल प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए तीन कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया है। वहीं इस खबर के सामने आने के बाद अब स्थानीय प्रशासन ने सरकारी और निजी ब्लड बैंक की जांच के आदेश दिए हैं।

मशहूर गोल्फर ज्योति रंधावा को शिकार का शौक पड़ा महंगा, यूपी पुलिस ने किया गिरफ्तार

डॉक्टरों ने खून चढ़ाने को कहा 

बता दें कि तमिलनाडु के शिवकाशी स्थित सरकारी अस्पताल में गत 3 दिबंर को एक गर्भवती एनीमिया की शिकायत लेकर अस्पताल पहुंची । अस्पताल में डॉक्टर ने उनकी जांच करने के बाद उन्हें खून चढ़ाने के लिए स्टाफ को कहा। इस दौरान स्टाफ ने उसे एचआईवी संक्रमित खून चढ़ा दिया, जिसके चलते उसकी तबीयत बिगड़ने लगी।

भारत से छिन सकती है 2023 विश्वकप की मेजबानी, आईसीसी ने मांगे 160 करोड़ रुपये

एचआईवी टेस्ट के लिए खून जांच करवाई थी


जांच में सामने आया है कि गत 30 नवंबर को एक शख्स ने विदेश जाने से पहले एक निजी अस्पताल में अपनी खून की जांच करवाई थी। इस जांच में वह एचआईवी संक्रमित पाया गया। ऐसे में उसने प्राइवेट अस्पताल की रिपोर्ट की पुष्टि के लिए उसने शिवकाशी से सरकारी अस्पताल में अपना खून डोनेट किया, लेकिन यहां भी जांच में उसका खून संक्रमित पाया गया था, बावजूद इसके खून के पैकेट को ब्लड बैंक में ही रखा गया।

नोएडा नमाज मामले में ओवैसी का योगी पर निशाना, कहा- कांवड़ियों पर तो फूल बरसाओ लेकिन नमाज पढ़ी तो शांति भंग!

खून चढ़ने के बाद बिगड़ी महिला की तबीयत

वहीं सरकारी अस्पताल ने जब महिला को खून चढ़ा के अस्पताल से छुट्टी दे दी तो कुछ दिनों बाद महिला की तबीयत बिगड़ी । इस पर वह दोबारा सरकारी अस्पताल आई तो उसके एचआईवी संक्रमित होने की रिपोर्ट आई। इस पर सामने आया कि अस्पताल ने पिछले दिनों जो खून चढ़ाया था वो एचआईवी संक्रमित था, जिसके चलते उसकी तबीयत बिगड़ी है। बहरहाल , अब महिला की काउंसलिंग के साथ ही उसका इलाज किया जा रहा है।

अब राजग के अपना दल ने भी तरेरी आंखें, यूपी में उचित सम्मान न मिलने से नाराज

Todays Beets: