Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

बच्ची के शव के लिए नहीं मिली एंबुलेंस, पिता कंधे पर उठाकर चल दिए ...

अंग्वाल संवाददाता
बच्ची के शव के लिए नहीं मिली एंबुलेंस, पिता कंधे पर उठाकर चल दिए ...

फरीदाबाद। शहर के हॉस्पिटल बादशाह खान में इलाज के दौरान एक बच्ची की मौत हो गई। बच्ची के परिजनों का आरोप है कि बच्ची के शव को घर तक ले जाने के लिए एंबुलेंस तक उपलब्ध नहीं कराई गई। करीब आधे घंटे तक जब उसे एंबुलेंस नहीं मिली तो पीड़ित पिता बच्ची के शव को कधें पर उठाकर अस्पताल से चल दिए। हालांकि, कुछ दूर चलने पर लोगों ने प्राइवेट एंबुलेंस कराकर उन्हें बेटी के शव के साथ घर भेजा। वहीं सिविल सर्जन डॉ गुलशन अरोड़ा ने बच्ची की मौत की जांच के लिए एक टीम का गठन कर दिया है।

डबुआ कॉलोनी निवासी सोनू ने अपनी नौ साल की बेटी लक्ष्मी को गंभीर हालत में शुक्रवार को बीके अस्पताल में एडमिट कराया था। इससे पहले भी वह दो अस्पतालों में बच्ची के इलाज के लिए धक्के खा चुका थे, लेकिन आर्थिक तंगी के चलते वह उसे बीके हॉस्पिटल लेकर आए थे। यहां पर डॉक्टरों ने बच्ची को गंभीर हालत में देखकर एडमिट कर लिया। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। बताया गया है कि लक्ष्मी को सुबह 10.30 बजे एडमिट किया गया था जबकि उसकी मौत दोपहर 12 बजे के करीब हुई। लक्ष्मी को तेज बुखार के अलावा दस्त होने की वजह से डिहाईड्रेशन हो गया था।


लक्ष्मी की मौत के बाद उसके माता-पिता शव को घर ले जाने के लिए एंबुलेंस ढूंढ़ने लगे, लेकिन काफी इंतजार के बाद एंबुलेंस नहीं मिली। बीके हॉस्पितल में खड़ी रेड क्रॉस की एंबुलेंस के ड्राइवर से भी संपर्क किया गया । तो पता चला की एंबुलेंस खराब है। एंबुलेंस नहीं मिलने पर पिता सोनू अपनी बेटी के शव को कंधे पर लेकर घर की ओर चलने लगा। इस दौरान कुछ लोगों की नजर उस पर पड़ी।

इसके बाद शव को कुछ लोगों के सहयोग से प्राइवेट एंबुलेंस के जरिए घर पहुंयाया गया। सिविल सर्जन डॉ गुलशन अरोड़ा ने बताया कि बच्ची को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किए गए। बच्ची को बेहद गंभीर अवस्था में अस्पताल लाया गया था। वह तेज बुखार, दस्त और डिहाईड्रेशन से पीड़ित थी। क्या एंबुलेंस केवल जीवित मरीज को ही उपलब्ध कराई जाती है । इस मामले की जांच के लिए एक टीम का गठन कर दिया गया हैं।

Todays Beets: