Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

इलाज में लापरवाही बरतने पर अस्पताल सील, पूछताछ के लिए दो डॉक्टर हिरासत में

अंग्वाल संवाददाता
इलाज में लापरवाही बरतने पर अस्पताल सील, पूछताछ के लिए दो डॉक्टर हिरासत में

रायपुर। महासमुंद जिले के बागबाहरा में गुरुवार को एक निजी अस्पताल में एक व्यक्ति की मौत के बाद अस्पताल को सील कर दिया गया है।  बताया जा रहा है कि मृत व्यकित के परिजनों ने अस्पताल पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया था। जांच के बाद जिला प्रशासन ने अस्पताल को सील कर दिया। साथ ही दो डॉक्टरों को पूछताछ के हिरासत में लिया है। बता दें कि एक माह पहले 14 अगस्त को बीके बाहरा निवासी लेखराम यादव को कुत्ते ने काट लिया था। तब से ही लेखराम का इलाज बागबाहरा के निजी आयुष्मान अस्पताल में चल रहा था। डॉक्टर ने घाव पर टांके लगाकर मरहम-पट्टी करके रैबीज का इंजेक्शन नहीं दिया। 12 सितंबर को अचानक लेखराम की तबीयत खराब हो गई। इसके बाद उसे रायपुर रेफर कर दिया गया, लेकिन रास्ते में ही पीड़ित ने दम तोड़ दिया। इसके बाद परिजन भड़क उठे और अस्पताल के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया ।

यह भी पढ़े- मुंबई में मेडिकल की छात्रा ने हॉस्टल रूम में लगाई फांसी 


उन्होंने अस्पताल के बाहर एनएच-353 पर मृतक शव को रखकर चक्काजाम कर दिया और अस्पताल तथा लापरवाह डॉक्टर्स पर कार्रवाई की मांग को लेकर हंगामा करते रहे। हंगामे की सूचना के बाद जिला प्रशासन की ओर से एसडीएम प्रेमप्रकाश शर्मा और पुलिस प्रशासन की ओर से एसएसपी संजय ध्रुव मौके पर पहुंचकर लोगों को समझाने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं माने। इसके बाद प्रसाशन ने चिकित्सकों की टीम बुलाकर इलाज की प्रक्रिया की जांच की। इलाज में लापरवाही की बात सामने आने पर तत्काल अस्पताल को सील कर दिया गया। साथ ही अस्पताल के दो डॉक्टरों को पुलिस ने पूछताछ के लिए हिरासत में लिया।   

यह भी पढ़े-  जयपुर में पुलिस और लोगों में झड़प में एक की मौत, इलाके में कर्फ्यू लागू

Todays Beets: