Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

स्कूल में बच्चे असुरक्षित, मिड-डे-मील खाने के बाद 150 बच्चे पड़े बीमार, कुछ लड़कियां गंभीर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
स्कूल में बच्चे असुरक्षित, मिड-डे-मील खाने के बाद 150 बच्चे पड़े बीमार, कुछ लड़कियां गंभीर

कालाहांडी । एक और जहां पूरे देश में सुप्रीम कोर्ट से लेकर केंद्र और राज्य सरकारें स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा को लेकर सजग हो गई हैं, वहीं शिक्षा विभाग के अधिकारी अभी इस मामले में उदासीनता बरतने से बाज नहीं आ रहे हैं। अब खबर ओडिशा के कालाहाड़ी स्थित लांजीगढ़ ब्लॉक से आ रही है, जहां मिड-डे-मील खाने से एक - दो नहीं बल्कि चार प्राथमिक विद्यालयों के 150 से अधिक छात्र बीमार हो गए। इन छात्रों को उल्टी, पेट में दर्द और दस्त की शिकायत के बाद बिसननाथपुर में सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

बता दें कि गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में बच्चे की हत्या के बाद से स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सख्त रुख अख्तियार किया है। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को केंद्र और राज्य सरकारों को इस मामले में नोटिस जारी करते हुए तीन सप्ताह के भीतर जवाब देने को कहा है, वहीं मिड-डे-मील जैसी व्यवस्था में लगातार आ रही खामियों को दूर करने का काम होता नजर नहीं आ रहा है। उड़ीसा के कालाहाड़ी स्थित लांजीगढ़ ब्लॉक में स्थित सरकारी स्कूलों में शुक्रवार को मिड-डे-मील का खाना खाने के बाद करीब 150 बच्चों को पेट दर्द, उल्टी की शिकायत हुई। मामला बिगड़ता देख बच्चों को विसननाथपुर के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया। वहीं कुछ बच्चों को भवानीपटना के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया, हालांकि तबीयत बिगड़ने पर उन्हें बुरला वीएसएस मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया, 


सामने आया है कि इस मिड-डे-मील की आपूर्ति वेदांत एल्यूमिना कंपनी की मन्ना ट्रस्ट ने माध्यम से की गई थी। वहीं इस मामले में कलहांडी जिला मजिस्ट्रेट ने जिला शिक्षा अधिकारी को आदेश दिए हैं कि वह इस फूड प्वाइजनिंग के मामले की जांच करें। इतना ही नहीं दोषी लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 

Todays Beets: