Sunday, January 20, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

मध्यप्रदेश की जुवेनाइल कोर्ट ने दुष्कर्म के मामले में कायम की मिसाल, महज 7 घंटे के अंदर सुनाई सजा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मध्यप्रदेश की जुवेनाइल कोर्ट ने दुष्कर्म के मामले में कायम की मिसाल, महज 7 घंटे के अंदर सुनाई सजा

भोपाल । मध्यप्रदेश की जुवेनाइल कोर्ट ने दुष्कर्म के एक मामले में सजा का ऐलान करने में नई मिसाल कायम कर दी। कोर्ट ने महज 7 घंटे के अंदर आरोपी को दोषी बताते हुए सजा का ऐलान कर दिया। जुवेनाइल कोर्ट की जस्टिस तृप्ति पांडे ने दोषी व्यक्ति को 2 सालों की कैद की सजा सुनाई है। कोर्ट ने दोषी को मध्य प्रदेश के जिले के रिमांड होम भेजने का आदेश भी दिया है। बता दें कि दुष्कर्म की घटना 15 अगस्त को अंजाम दिया गया था।

गौरतलब है कि घटना के 5 दिनों के अंदर एफआईआर दर्ज करने से लेकर जांच, आरोपपत्र दाखिल करना, सुनवाई और सजा सुनाने की प्रक्रिया पूरी कर ली गई। सोमवार की सुबह केस की डायरी सौंपी गई और शाम को कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया। बताया जा रहा है कि पाॅक्सो कानून लागू होने के बाद यह पहला ऐसा मामला है जिसका फैसला इतने कम समय में सुनाया गया है। 

ये भी पढ़ें - बदले गए देश के कई राज्यों के राज्यपाल, सत्यपाल मलिक को मिली जम्मू कश्मीर की जिम्मेदारी, बेबी ...


यहां बता दें कि मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस तृप्ति पांडे ने कहा कि नाबालिग बच्चियों के खिलाफ यौन हिंसा का मामला बढ़ता जा रहा है। आरोपी की मानसिक स्थिति को ठीक करने के लिए 2 साल की सजा देकर जेल भेज दिया गया है। खबरों के अनुसार, 15 अगस्त को बच्ची आरोपी के घर पर खेल रही थी उसी समय उसने इस घटना को अंजाम दिया। बच्ची के द्वारा माता-पिता को घटना के बारे में जानकारी देने पर एफआईआर दर्ज कराया गया। 

आरोपी की गिरफ्तारी के लिए बनाई गई पुलिस टीम ने आरोपी को राजस्थान से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस अधिकारी ने कहा कि दोषी को आईपीसी की विभिन्न धाराओं और पॉक्सो कानून के तहत सजा सुनाई गई। जल्दी दिए गए फैसले से लोगों में एक कड़ा संदेश जाएगा। 

 

Todays Beets: