Thursday, April 19, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

मेट्रो में घाटा नहीं, घोटाला हुआ, निजी टैक्सी को बढ़ावा देने के लिए किराये में की वृद्धि - मनीष सिसोदिया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मेट्रो में घाटा नहीं, घोटाला हुआ, निजी टैक्सी को बढ़ावा देने के लिए किराये में की वृद्धि - मनीष सिसोदिया

नई दिल्ली । दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मंगलवार को केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि निजी टैक्सी कंपनियों को लाभ पहुंचाने के मकसद से सरकार ने मेट्रो के दाम घटाने पर अपना रुख अड़िग कर रखा है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार निजी टैक्सी की तुलना में मेट्रो को सफर महंगा बनाना चाहती है, ताकि लोग मेट्रो के बजाए इन कैब को विकल्प के रूप में अपना सकें। केंद्र सरकार ने खुद को निजी कंपनियों में बेच दिया है। इतना ही नहीं सिसोदिया ने हमला जारी रखते हुए कहा कि उन्होंने भारतीय रेल को भी बर्बाद कर दिया। 

सिसोदिया ने केंद्र सरकार पर हमला जारी रखते हुए कहा कि अगर किराया बढ़ाकर मेट्रो अपनी आमदनी बढ़ाना चाहती है तो इसके लिए और भी कई तरीके हैं। सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली मेट्रो ही नहीं बल्कि दुनिया भर के मेट्रो मुनाफे में रहते हैं क्योंकि इसमें भ्रष्ट नेताओं को रिश्वत नहीं देनी होती। उन्होंने मेट्रो में घाटा न होकर घोटाले की आशंका जताई । 


वहीं दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल किराया वृद्धि को लेकर केंद्र सरकार के उदासीन रवैये का विरोध कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र के रुख के चलते ही लोगों पर किराये का बोझ बढ़ा है। हालांकि उनके रुख पर सवाल उठाते हुए केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप पुरी ने कहा कि मेट्रो रेलवे (परिचालन और रखरखाव) एक्ट की धारा 86 और 37 के तहत केजरीवाल को पता होना चाहिए कि केंद्र सरकार भी किराया निर्धारण के क्षेत्र में FFC के काम में कोई दखल नहीं देती। 

बता दें कि मंगलवार से दिल्ली मेट्रो में सफर करना और महंगा हो गया है।  डीएमआरसी ने अपनी घोषणा के अनुसार, एक बार फिर किराये में वृद्धि कर दी है। हालांकि दिल्ली की केजरीवाल सरकार डीएमआरसी के इस फैसले के विरोध में खड़ी है।

Todays Beets: