Sunday, January 21, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

स्व. चंद्र सिंह राही की दूसरी पुण्यतिथि पर आज 'सुरमयी संगीत संध्या', हैबिटेट सेंटर में पुत्र राकेश भारद्वाज देंगे संगीतमय श्रदांजलि

अंग्वाल संवाददाता
स्व. चंद्र सिंह राही की दूसरी पुण्यतिथि पर आज

नई दिल्ली । उत्तराखंड के गढ़वाल और कुमाऊं को सुरीले गीत और संगीत देने वाले मशहूर लोक गायक, गीतकार और कल्चरल एक्टिविस्ट स्व. चंद्र सिंह राही की दूसरी पुण्यतिथि के मौके पर उनके पुत्र राकेश भारद्वाज ने 10 जनवरी को नई दिल्ली के लोदी रोड स्थित इंडिया हैबिटेट सेंटर में एक संगीत संध्या का आयोजन किया है। इस दौरान स्व. राही के पुराने गानों को लोगों के सामने पेश किया जाएगा। प्रसिद्ध लोक गायक स्वर्गीय चंद्र सिंह राही के परिजन अब 'राही घराना' नाम से उनके गीत संगीत को धरोहर के रूप में सुरक्षित रखने की कोशिश कर रहे है। कार्यक्रम के बारे में राकेश भारद्वाज ने बताया कि इस कार्यक्रम के जरिए जहां मेरी कोशिश अपने गुरू और पिता को श्रद्धांजलि देना है, वहीं उनकी गायन शैली को नई पीढ़ी के लोगों तक पहुंचाना भी है। मुझे खुशी है कि पहाड़ के लोग स्व. चंद सिंह राही को बार-बार याद कर रहे हैं। इस कार्यक्रम में एंट्री निशुल्क रखी गई है। 

राकेश भारद्वाज ने कहा कि पिछले साल भी हमने पिता जी पुन्य तिथि पर ऐसे ही एक कार्यक्रम का सफल आयोजन किया था। ऐसे में हमने पिता की दूसरी पुन्य तिथि पर उनसे मिले संगीत को एक बार फिर से लोगों के सामने पेश कर उन्हें श्रद्धांजलि देने की योजना बनाई है। इस संगीत संध्या में उनके पिता के पुराने गानों की प्रस्तुति की जाएगी। खास बात यह होगी कि उनके गीतों को गाने वालों में कोई और नहीं बल्कि उनके ही परिवार के सदस्य होंगे। इनमें उनके नाती-पोते भी अपने स्वर के माध्यम से उन्हें श्रद्धांजलि देंगे। 


कार्यक्रम नई दिल्ली के लोदी रोड स्थित इंडिया हैबिटेट सेंटर में आयोजित होगा। कार्यक्रम शाम 7 बजे से शुरू होगा।  

Todays Beets: