Tuesday, January 23, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

स्कूलों में नहीं हैं शिक्षक बच्चे कैसे पढ़ेगे गणित और विज्ञान

अंग्वाल संवाददाता
स्कूलों में नहीं हैं शिक्षक बच्चे कैसे पढ़ेगे गणित और विज्ञान

लखनऊ ।जहां एक तरफ स्कूलों में बच्चों को पढ़ाई पर ध्यान देने के लिए कहा जाता है और बच्चों से गणित और विज्ञान के विषय पर अधिक जोर देने के लिए कहा जाता है। तो वहीं दूसरी तरफ हर जूनियर स्कूल में विज्ञान और गणित के लिए एक शिक्षक का होना अनिवार्य है, लेकिन रिपोर्ट के आकड़ों के मुताबिक बीते वर्षों से सरकारी जूनियर स्कूलों में गणित और विज्ञान के शिक्षकों के तबादलों व नियुक्ति का दूर-दूर तक कोई जिक्र नहीं है। यदि यही सिलसिला चलता रहा तो आने वाले वर्षों में गणित और विज्ञान के शिक्षकों का अनुपात बिगड़ सकता है। साथ ही प्राइमरी स्कूलों में शिकक्षों की तैनाती के लिए अनिवार्य योगयता पहले बीटीसी और डीएड में भी कला व विज्ञान वर्ग खत्म कर दिया है।

वर्ष 2012 से पहले नियुक्तियों की 50-50 फीसदी रिक्तियां विज्ञान और कला वर्ग के लिए होती थी और ऐसा ही नियम बीटीसी में भी था। हालांकि वर्ष 2013 में 29 हजार गणित व विज्ञान के शिक्षक भर्ती किए गए हैं, लेकिन समायोजन के ताजा आदेश में सबसे जूनियर शिक्षक को ही सरप्लस में मानने के आदेश हैं, लेकिन सबसे जूनियर शिक्षक ही विज्ञान या गणित को पठाएगा तो शिक्षा आरटीई के मानक कैसे पूरे हो पाएंगे। वहीं दूसरे जिलों में भी विज्ञान गणित के शिक्षकों के लिए अलग से कोई निर्देश नहीं हैं। हर साल हो रहे सर्वेक्षणों में सरकारी स्कूलों के बच्चों की गणित और विज्ञान कमजोर होने के कारण परिणाम भी घटते चले जा रहे हैं।


आपको बता दें कि आरटीई एक्ट में हर जूनियर स्कूल में एक गणित और एक विज्ञान के शिक्षक का होना अनिवार्य कर दिया गया है। गणित, विज्ञान मजबूत करने को लेकर सरकार पूरे वर्ष शिक्षक प्रशिक्षण पर काफी पैसा भी खर्च करती है, लेकिन तबादलो के समय इस संबंध पर नजरअंदाजी कर दी जाती है।  

Todays Beets: