Friday, July 21, 2017

Breaking News

   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||   नियंत्रण रेखा के पास एक चौकी में जवान ने मेजर को गोली मारी, मेजर की मौत    ||   नियंत्रण रेखा पर गुरेज सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश    ||   मानवाधिकार आयोग का आदेश, सेना की जीप से बंधे अहमद डार को दें 10 लाख मुआवजा    ||   सुरजेवाला ने कहा- सनसनी न फैलाएं, 'हां' चीन के दूत से मिले थे राहुल गांधी    ||   देखें, मुजफ्फरनगर के बीजेपी MLA उमेश मलिक ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को जेल भेजने की धमकी दी, मलिक धरने में बैठे टीचर्स से मिले थे    ||   हैम्बर्ग में 7 जुलाई को G20 समिट के लिए ब्रिक्स नेता होंगे शामिल, पीएम मोदी और चीन के राष्ट्रपति भी लेंगे हिस्सा    ||

स्कूलों में नहीं हैं शिक्षक बच्चे कैसे पढ़ेगे गणित और विज्ञान

अंग्वाल संवाददाता
स्कूलों में नहीं हैं शिक्षक बच्चे कैसे पढ़ेगे गणित और विज्ञान

लखनऊ ।जहां एक तरफ स्कूलों में बच्चों को पढ़ाई पर ध्यान देने के लिए कहा जाता है और बच्चों से गणित और विज्ञान के विषय पर अधिक जोर देने के लिए कहा जाता है। तो वहीं दूसरी तरफ हर जूनियर स्कूल में विज्ञान और गणित के लिए एक शिक्षक का होना अनिवार्य है, लेकिन रिपोर्ट के आकड़ों के मुताबिक बीते वर्षों से सरकारी जूनियर स्कूलों में गणित और विज्ञान के शिक्षकों के तबादलों व नियुक्ति का दूर-दूर तक कोई जिक्र नहीं है। यदि यही सिलसिला चलता रहा तो आने वाले वर्षों में गणित और विज्ञान के शिक्षकों का अनुपात बिगड़ सकता है। साथ ही प्राइमरी स्कूलों में शिकक्षों की तैनाती के लिए अनिवार्य योगयता पहले बीटीसी और डीएड में भी कला व विज्ञान वर्ग खत्म कर दिया है।

वर्ष 2012 से पहले नियुक्तियों की 50-50 फीसदी रिक्तियां विज्ञान और कला वर्ग के लिए होती थी और ऐसा ही नियम बीटीसी में भी था। हालांकि वर्ष 2013 में 29 हजार गणित व विज्ञान के शिक्षक भर्ती किए गए हैं, लेकिन समायोजन के ताजा आदेश में सबसे जूनियर शिक्षक को ही सरप्लस में मानने के आदेश हैं, लेकिन सबसे जूनियर शिक्षक ही विज्ञान या गणित को पठाएगा तो शिक्षा आरटीई के मानक कैसे पूरे हो पाएंगे। वहीं दूसरे जिलों में भी विज्ञान गणित के शिक्षकों के लिए अलग से कोई निर्देश नहीं हैं। हर साल हो रहे सर्वेक्षणों में सरकारी स्कूलों के बच्चों की गणित और विज्ञान कमजोर होने के कारण परिणाम भी घटते चले जा रहे हैं।

आपको बता दें कि आरटीई एक्ट में हर जूनियर स्कूल में एक गणित और एक विज्ञान के शिक्षक का होना अनिवार्य कर दिया गया है। गणित, विज्ञान मजबूत करने को लेकर सरकार पूरे वर्ष शिक्षक प्रशिक्षण पर काफी पैसा भी खर्च करती है, लेकिन तबादलो के समय इस संबंध पर नजरअंदाजी कर दी जाती है।  

Todays Beets: