Monday, May 21, 2018

Breaking News

   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||

स्कूलों में नहीं हैं शिक्षक बच्चे कैसे पढ़ेगे गणित और विज्ञान

अंग्वाल संवाददाता
स्कूलों में नहीं हैं शिक्षक बच्चे कैसे पढ़ेगे गणित और विज्ञान

लखनऊ ।जहां एक तरफ स्कूलों में बच्चों को पढ़ाई पर ध्यान देने के लिए कहा जाता है और बच्चों से गणित और विज्ञान के विषय पर अधिक जोर देने के लिए कहा जाता है। तो वहीं दूसरी तरफ हर जूनियर स्कूल में विज्ञान और गणित के लिए एक शिक्षक का होना अनिवार्य है, लेकिन रिपोर्ट के आकड़ों के मुताबिक बीते वर्षों से सरकारी जूनियर स्कूलों में गणित और विज्ञान के शिक्षकों के तबादलों व नियुक्ति का दूर-दूर तक कोई जिक्र नहीं है। यदि यही सिलसिला चलता रहा तो आने वाले वर्षों में गणित और विज्ञान के शिक्षकों का अनुपात बिगड़ सकता है। साथ ही प्राइमरी स्कूलों में शिकक्षों की तैनाती के लिए अनिवार्य योगयता पहले बीटीसी और डीएड में भी कला व विज्ञान वर्ग खत्म कर दिया है।

वर्ष 2012 से पहले नियुक्तियों की 50-50 फीसदी रिक्तियां विज्ञान और कला वर्ग के लिए होती थी और ऐसा ही नियम बीटीसी में भी था। हालांकि वर्ष 2013 में 29 हजार गणित व विज्ञान के शिक्षक भर्ती किए गए हैं, लेकिन समायोजन के ताजा आदेश में सबसे जूनियर शिक्षक को ही सरप्लस में मानने के आदेश हैं, लेकिन सबसे जूनियर शिक्षक ही विज्ञान या गणित को पठाएगा तो शिक्षा आरटीई के मानक कैसे पूरे हो पाएंगे। वहीं दूसरे जिलों में भी विज्ञान गणित के शिक्षकों के लिए अलग से कोई निर्देश नहीं हैं। हर साल हो रहे सर्वेक्षणों में सरकारी स्कूलों के बच्चों की गणित और विज्ञान कमजोर होने के कारण परिणाम भी घटते चले जा रहे हैं।


आपको बता दें कि आरटीई एक्ट में हर जूनियर स्कूल में एक गणित और एक विज्ञान के शिक्षक का होना अनिवार्य कर दिया गया है। गणित, विज्ञान मजबूत करने को लेकर सरकार पूरे वर्ष शिक्षक प्रशिक्षण पर काफी पैसा भी खर्च करती है, लेकिन तबादलो के समय इस संबंध पर नजरअंदाजी कर दी जाती है।  

Todays Beets: