Tuesday, June 19, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

‘राज्यमंत्री’ कंप्यूटर बाबा की बढ़ी महत्वाकांक्षा, अब विधान सभा टिकट की कर रहे मांग

अंग्वाल न्यूज डेस्क
‘राज्यमंत्री’ कंप्यूटर बाबा की बढ़ी महत्वाकांक्षा, अब विधान सभा टिकट की कर रहे मांग

भोपाल। मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार द्वारा 5 संतों को राज्यमंत्री का दर्जा दिए जाने के बाद बाबाओं की महत्वाकांक्षा बढ़ती जा रही है। राज्समंत्री का दर्जा पाने के बाद विवादों में रहे कम्प्यूटर बाबा अब विधानसभा चुनाव के लिए टिकट की मांग कर रहे हैं। बाबा ने कहा कि वे चाहते हैं कि विधान सभा चुनाव के लिए शिवराज सिंह ज्यादा से ज्यादा लोगों को टिकट दें और इनमें संतों को भी शामिल किया जाए ताकि वे भी समाज के साथ राज्य के विकास में अपना योगदान दे सकें। 

गौरतलब है कि शिवराज सिंह द्वारा 5 संतों कम्प्यूटर बाबा के अलावा नर्मदानंद, हरिहरानंद, भैय्यू महाराज और पंडित योगेंद्र महंत को राज्यमंत्री का दर्जा दे दिया था जिसके बाद काफी हंगामा हुआ था। इसी क्रम में सरकार ने नर्मदा नदी के लिए जन जागरुकता अभियान चलाने के लिए एक विशेष समिति भी गठित की है जिसके तहत इन बाबाओं को राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया है।


ये भी पढ़ें - पूर्व सांसदों की पेंशन नहीं होगी बंद, सुप्रीम कोर्ट ने ‘लोक प्रहरी’ की याचिका की खारिज

यहां बता दें कि राज्यमंत्री का दर्जा मिलने के बाद पहली बार मंडला पहुंचे कम्प्यूटर बाबा ने कहा कि संत समुदाय कब तक समाज के भले के लिए किसी के पीछे घूमेगा। साधु-संत भी समाज के विकास में अपना योगदान देना चाहते हैं और इसके लिए वे कब तक दूसरों के भरोसे रहेंगे। ऐसे में उन्हें सक्रिय राजनीति में आने का मौका दिया जाए। कम्प्यूटर बाबा ने कहा कि वे मुख्यमंत्री से सिवनी के खड़ेश्वरी बाबा के लिए विधानसभा का टिकट मांगेंगे। 

Todays Beets: