Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

बिहार बोर्ड को पटना हाईकोर्ट ने दिया बड़ा झटका, पास छात्रा को फेल बताने पर लगाया 5 लाख रुपये का जुर्माना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिहार बोर्ड को पटना हाईकोर्ट ने दिया बड़ा झटका, पास छात्रा को फेल बताने पर लगाया 5 लाख रुपये का जुर्माना

पटना। अपनी करतूतों की वजह से सुर्खियों में रहने वाले बिहार बोर्ड का एक नया कारनामा सामने आया है। पास छात्रा को फेल घोषित कर दिया, छात्रा के हाईकोर्ट में मामला दर्ज कराने के बाद दोबारा जांच मंे छात्रा को पास गया। अब कोर्ट ने छात्रा को हुई मानसिक परेशानी के बदले बोर्ड पर 5 लाख रुपये का जुर्माना लगात हुए तीन महीने के अंदर इसे छात्रा के खाते में जमा करने के निर्देश दिए हैं।

पास छात्रा को किया फेल

गौरतलब है कि अक्सर अपनी गलतियों की वजह से चर्चा में रहने वाले बिहार बोर्ड एक बार फिर से सुर्खियों में है। इस बार की गलती का उसे बड़ा हर्जाना भुगतना पड़ा है। पटना हाईकोर्ट ने बिहार परीक्षा बोर्ड पर इसके लिए 5 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है इसकी वजह है बोर्ड की वह गलती जिसमें पास होने के बावजूद प्रियंका सिंह नाम की छात्रा को फेल घोषित कर दिया गया था। 

बोर्ड को फटकार


आपको बता दें कि पटना हाईकोर्ट ने सहरसा जिले की प्रियंका सिंह की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह फैसला सुनाया है। बता दें कि प्रियंका ने इसी साल मैट्रिक की परीक्षा दी थी उसकी काॅपी की जांच में उसे संस्कृत में 4 और विज्ञान में 29 नंबर दिए गए थे। परीक्षा के परिणाम आने के बाद स्क्रूटिनी में उसने इन दोनों विषयों का पुनर्मूल्यांकन कराया तब संस्कृत में 9 और विज्ञान में 7 अंक आए। इसके बाद छात्रा ने पटना हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की, जहां कोर्ट ने सुनवाई के दौरान प्रियंका के वकील को कहा अगर उसके द्वारा लगाए गए आरोप गलत साबित होते हैं तो उसे 40 हजार रुपये का जुर्माना देना होगा। छात्रा ने अपनी मेहनत पर विश्वास करते हुए इस राशि को सुनवाई से पहले जमा भी करा दिया।

ये भी पढ़ें -दिवाली के मौके पर पीएम की मां ने किया गरबा, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो

मानसिक परेशानी के लिए जुर्माना

गौरतलब है कि कोर्ट के आदेश पर बोर्ड ने कोर्ट में उसकी काॅपी जमा कराई गई लेकिन इसमें लिखावट किसी और की थी। अदालत द्वारा बोर्ड को फटकार लगाने के बाद प्रियंका की मूल कॉपी पेश की गई और बहाना यह बनाया गया कि बारकोडिंग गलत थी। जब कोर्ट के सामने जांच हुई तब प्रियंका ने संस्कृत में 61 और विज्ञान में 80 नंबर आए। अब कोर्ट ने इस मामले में आदेश देते हुए कहा कि बोर्ड की गलती की वजह से प्रियंका और उसके अभिभावक को मानसिक पीड़ा से गुजरना पड़ा है, इसलिए बिहार बोर्ड की तरफ से 5 लाख रुपए की राशि अगले तीन महीने में उनके खाते में जमा की जाए।

Todays Beets: