Tuesday, November 21, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

बिहार बोर्ड को पटना हाईकोर्ट ने दिया बड़ा झटका, पास छात्रा को फेल बताने पर लगाया 5 लाख रुपये का जुर्माना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिहार बोर्ड को पटना हाईकोर्ट ने दिया बड़ा झटका, पास छात्रा को फेल बताने पर लगाया 5 लाख रुपये का जुर्माना

पटना। अपनी करतूतों की वजह से सुर्खियों में रहने वाले बिहार बोर्ड का एक नया कारनामा सामने आया है। पास छात्रा को फेल घोषित कर दिया, छात्रा के हाईकोर्ट में मामला दर्ज कराने के बाद दोबारा जांच मंे छात्रा को पास गया। अब कोर्ट ने छात्रा को हुई मानसिक परेशानी के बदले बोर्ड पर 5 लाख रुपये का जुर्माना लगात हुए तीन महीने के अंदर इसे छात्रा के खाते में जमा करने के निर्देश दिए हैं।

पास छात्रा को किया फेल

गौरतलब है कि अक्सर अपनी गलतियों की वजह से चर्चा में रहने वाले बिहार बोर्ड एक बार फिर से सुर्खियों में है। इस बार की गलती का उसे बड़ा हर्जाना भुगतना पड़ा है। पटना हाईकोर्ट ने बिहार परीक्षा बोर्ड पर इसके लिए 5 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है इसकी वजह है बोर्ड की वह गलती जिसमें पास होने के बावजूद प्रियंका सिंह नाम की छात्रा को फेल घोषित कर दिया गया था। 

बोर्ड को फटकार


आपको बता दें कि पटना हाईकोर्ट ने सहरसा जिले की प्रियंका सिंह की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह फैसला सुनाया है। बता दें कि प्रियंका ने इसी साल मैट्रिक की परीक्षा दी थी उसकी काॅपी की जांच में उसे संस्कृत में 4 और विज्ञान में 29 नंबर दिए गए थे। परीक्षा के परिणाम आने के बाद स्क्रूटिनी में उसने इन दोनों विषयों का पुनर्मूल्यांकन कराया तब संस्कृत में 9 और विज्ञान में 7 अंक आए। इसके बाद छात्रा ने पटना हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की, जहां कोर्ट ने सुनवाई के दौरान प्रियंका के वकील को कहा अगर उसके द्वारा लगाए गए आरोप गलत साबित होते हैं तो उसे 40 हजार रुपये का जुर्माना देना होगा। छात्रा ने अपनी मेहनत पर विश्वास करते हुए इस राशि को सुनवाई से पहले जमा भी करा दिया।

ये भी पढ़ें -दिवाली के मौके पर पीएम की मां ने किया गरबा, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो

मानसिक परेशानी के लिए जुर्माना

गौरतलब है कि कोर्ट के आदेश पर बोर्ड ने कोर्ट में उसकी काॅपी जमा कराई गई लेकिन इसमें लिखावट किसी और की थी। अदालत द्वारा बोर्ड को फटकार लगाने के बाद प्रियंका की मूल कॉपी पेश की गई और बहाना यह बनाया गया कि बारकोडिंग गलत थी। जब कोर्ट के सामने जांच हुई तब प्रियंका ने संस्कृत में 61 और विज्ञान में 80 नंबर आए। अब कोर्ट ने इस मामले में आदेश देते हुए कहा कि बोर्ड की गलती की वजह से प्रियंका और उसके अभिभावक को मानसिक पीड़ा से गुजरना पड़ा है, इसलिए बिहार बोर्ड की तरफ से 5 लाख रुपए की राशि अगले तीन महीने में उनके खाते में जमा की जाए।

Todays Beets: