Monday, January 21, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

बिहार बोर्ड की लापरवाही पर हाईकोर्ट ने दिखाई सख्ती, लगाया 5 लाख रुपये का जुर्माना 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिहार बोर्ड की लापरवाही पर हाईकोर्ट ने दिखाई सख्ती, लगाया 5 लाख रुपये का जुर्माना 

पटना। अपनी लापरवाही की वजह से अक्सर चर्चा में रहने वाले बिहार बोर्ड को हाईकोर्ट ने एक बड़ा झटका दिया है। साल 2017 की मैट्रिक दूसरे नंबर की टाॅपर रही भाव्या कुमारी की याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि उसे हिन्दी में 1 अंक देकर उसके रिजल्ट में सुधार कर प्रकाशन करने का आदेश दिया है। इसके साथ ही मैट्रिक और इंटरमीडिएट का रिजल्ट निकलने के बाद सभी 10 टॉपरों की उत्तर पुस्तिकाएं वेबसाइट पर अपलोड करने का भी आदेश दिया है। कोर्ट ने बोर्ड की लापरवाही पर 5 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है और जुर्माने की रकम 3 महीने के अंदर जमुई स्थित सिमुलतल्ला आवासीय विद्यालय को देने का आदेश दिया है। इस राशि का उपयोग स्कूल में लाइब्रेरी बनाने और कंप्यूटर आदि की खरीद में किया जाएगा। 

गौरतलब है कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति अक्सर ही छोटी-छोटी लापरवाहियों की वजह से किरकिरी का शिकार हुई है। ताजा मामले के अनुसार साल 2017 में हुई मैट्रिक बोर्ड की परीक्षा में जमुई के सिमुलतल्ला आवासीय विद्यालय की भाव्या कुमारी को दूसरा स्थान मिला था। उसने अपनी हिन्दी की उत्तरपुस्तिका का दोबारा मूल्यांकन कराया जिसमें पता चला कि उसे एक जवाब का नंबर ही नहीं दिया गया है। इसके बाद उसने हाईकोर्ट में याचिका दायर की।

ये भी पढ़ें - आमरण अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल का वजन 4 किलो घटा, डाॅक्टरों ने जल्द पोषण लेने की दी सलाह


यहां बता दें कि न्यायमूर्ति चक्रधारी शरण सिंह की एकलपीठ ने याचिका पर सुनवाई करने के बाद बिहार बोर्ड पर कड़ी टिप्पणी की है। हाईकोर्ट ने राज्य के 10 टाॅपरों के मूल्यांकन और पुनर्मूल्यांकन के बनाई गई विशेषज्ञ समिति पर भी सवाल उठाए हैं। कोर्ट ने भाव्या कुमारी के रिजल्ट में फौरन सुधारकर उसे प्रकाशित करने के आदेश दिए हैं। बोर्ड ने इस मामले में तकनीकी आधार का हवाला दिया था जिस पर कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी करते हुए बोर्ड को 2 सप्ताह के अंदर रिजल्ट प्रकाशित करने के आदेश दिए हैं। 

गौर करने वाली बात है कि पटना हाईकोर्ट ने बिहार बोर्ड फटकार लगाते हुए कहा कि बच्ची के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने पर उसे शर्म आनी चाहिए। कोर्ट ने बिहार बोर्ड पर लापरवाही बरतने के लिए 5 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माने की रकम जमुई के सिमुलतल्ला आवासीय विद्यालय को 3 महीने के अंदर देने का आदेश दिया है। साथ ही भाव्या कुमारी को 1 अंक देकर उसका रिजल्ट प्रकाशित करने को कहा है। आपको बता दें कि 1 नंबर मिलते ही भाव्या कुमारी का अंक मौजूदा टाॅपर प्रेम कुमार (465) के बराबर हो जाएगा और उसे भी संयुक्त रूप से टाॅपर घोषित किया जाएगा। 

 

Todays Beets: