Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

भारत बंद के दौरान हिंसा के आरोपियों पर कार्रवाई से घबराए मेरठ के दलित, घरों से कर रहे पलायन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारत बंद के दौरान हिंसा के आरोपियों पर कार्रवाई से घबराए मेरठ के दलित, घरों से कर रहे पलायन

नई दिल्ली। भारत बंद के दौरान दलितों के द्वारा यूपी में हुए हिंसक प्रदर्शन के बाद पुलिस की कार्रवाई का डर मेरठ में देखा जा सकता है। यहां के शोभापुर गांव से ज्यादातर दलित अपने घरों को छोड़कर दूसरी जगह चले गए हैं। बड़े पैमाने पर लोगों के घर छोड़कर जाने से यहां पलायन जैसी स्थिति पैदा हो गई है। हालांकि पुलिस प्रशासन पलायन की स्थिति से इंकार कर रहा है लेकिन गिरफ्तारी के डर से कुछ लोगों के घर छोड़ने की बात कबूल कर रहे हैं। 

गौरतलब है कि 2 अप्रैल को भारत बंद के दौरान पूरे देश में दलित संगठनों द्वारा हिंसक प्रदर्शन किया गया था इसमें यूपी के मेरठ में उपद्रवियों ने शहर के एक थाने में भी आग लगा दी थी। शोभापुर गांव में भी खूब आगजनी की घटना हुई थी। इसके बाद से ही दंगाइयों पर पुलिस ने नकेल कसना शुरू कर दिया है। पुलिस का कहना है कि हिंसक प्रदर्शन में जो भी लोग शामिल थे उनपर कार्रवाई की जाएगी। अब दलित समुदाय के लोग अपने ऊपर कार्रवाई के डर से घरों को छोड़कर दूसरे इलाके में जा रहे हैं। 


आपको बता दें कि मेरठ में बंद के दौरान काफी हिंसा हुई थी। तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए वहां कफ्र्यू लगाने के साथ इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गई थी। अब धीरे-धीरे स्थिति के नियंत्रण में आने पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी है। पूरे इलाके मंे आरएएफ के जवानों को तैनात कर दिया गया है। 

Todays Beets: