Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

बिहार में 6 महीने में तीसरी बार आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिहार में 6 महीने में तीसरी बार आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या

पटना। बिहार से फिर एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। बिहार के मोतीहारी में एक आरटीआई कार्यकर्ता की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई। बता दें कि 6 महीने के अंदर आरटीआई अधिकारी की हत्या का यह तीसरा मामला है। मृतक राजेंद्र नागरिक अधिकार मंच से जुड़े हुए थे। उन्होंने पुलिस प्रशासन और मनरेगा से जुड़े भ्रष्टाचार के कई मामलों का खुलासा किया था।

मंगलवार दोपहर राजेंद्र सिंह अपनी मोटरसाइकल पर सवार होकर मोतीहारी से अपने गांव संग्रामपुर लौट रहे थे कि तभी एक मोटरसाइकल पर सवार दो बदमाशों ने उनकी मोटरसाइकल के ओवरटेक कर एक के बाद एक उन पर 3 गोलीयां दाग दी जिसके बाद मौके पर ही उन की मौत हो गई। इस वारदात को एस सुनसान जगह पर अंजाम दिया गया।

ये भी पढ़े-हमीरपुर में चलता-फिरता अस्पताल कर रहा लोगों का इलाज, अनुराग ठाकुर ने शुरू की थी मोबाइल हेल्थ सेवा

नागरिक अधिकार मंच के शिवप्रकाश ने बताया कि राजेंद्र की हत्या आरटीआई कर्यकर्ता होने के कारण की गई है। शिवप्रकाश ने कहा कि 12 जून को जब उनकी मुलाकात राजेंद्र से हुई थी तब उन्होंने अपनी हत्या की अशंका जताई थी। इससे पहले भी उन पर 3 बार जानलेवा हमले हो चुके थे।


गौरतलब है कि  राजेंद्र सिंह शिक्षक नियुक्ति घोटाला, मनरेगा और इंदिरा आवास योजना से जुडे मामले भी उजागर कर चुके थे जो उन की हत्या की बड़ी वजह हो सकती है।

ये भी पढ़े-गोल्ड मेडल जीत चुका पहलवान बना अपराधी, हत्या के आरोप में गिरफ्तार

वहीं मोतिहारी एसपी उपेन्द्र यादव का कहना है कि पुलिस हर एगंल से मामले की जांच कर रही है। हत्या की वजह पारिवारिक रंजिश भी हो सकती है। उनकी पत्नी ने शिकायत में संपत्ती विवाद का भी उल्लेख किया है।

यहां आपको बता दें कि बिहार में आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या का यह तीसरा मामला है। इससे पहले वैशाली के आरटीआई कार्यकर्ता की भी हत्या की जा चुकी है। जानकारी के मुताबिक 13 वर्षों में 13 आरटीआई कार्यकर्ताओं की हत्या की जा चुकी है।

Todays Beets: