Wednesday, October 17, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

सावड़ा कुड्डु परियोजना बिजली पैदा करने के साथ सैलानियों को भी लुभाएगा, मार्च 2019 में होगा शुरू

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सावड़ा कुड्डु परियोजना बिजली पैदा करने के साथ सैलानियों को भी लुभाएगा, मार्च 2019 में होगा शुरू

शिमला। बिजली परियोजनाओं से बिजली उत्पादन की खबरें तो आम हैं लेकिन ऐसा कहा जाए कि परियोजना के जरिए बिजली उत्पादन के साथ संगीत की धुन भी सुनाई देगी तो कोई भी चौंक जाएगा। हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में हाटकोटी के पास बहने वाली पब्बर नदी पर देश का पहला ऐसा बांध बनाया गया है जिसमें पियानो की तरह ‘की-वेयर’ तैयार की गई हैं। इससे बिजली तैयार करने के साथ संगीत से वातावरण गुंजायमान होगा। 

गौरतलब है कि शिमला से करीब 100 किलोमीटर दूर प्रसिद्ध शक्तिपीठ हाटकोटी के साथ बहने वाली पब्बर नदी पर बनाए गए सावड़ा कुड्डू परियोजना के बांध के ऊपर पियानो बार का निर्माण किया गया है। इससे सात धाराएं निकलेंगी जो झरने का रूप लेकर मधुर संगीत पैदा करेंगी। बता दें कि इस परियोजना को हिमाचल प्रदेश पावर काॅरपोरेशन ने तैयार किया है। खबरों के अनुसार यह परियोजना पूरी तरह से तैयार है और इसे कुछ महीनों में पानी से भरकर चालू कर दिया जाएगा। 

ये भी पढ़ें - ‘राज्यमंत्री’ भय्यूजी महाराज ने खुद को गोली मार खुदकुशी की

यहां बता दें कि धार्मिक पर्यटन के तौर पर देश व विदेश से कई पर्यटक हाटकोटी पहुंचते हैं। ऐसे में हिमाचल सरकार का मकसद इस परियोजना के जरिए पर्यटकों को आकर्षित करने की भी है। बताया जा रहा है कि इस पियानो बार के ऊपर करीब 100 फुट की ऊंचाई से पानी गिरेगा जिससे एक अद्भुत संगीत उत्पन्न करेगा। गौर करने वाली बात है कि यहां बिजली पैदा करने के लिए 3 मशीनों को लगाया गया है। इसके साथ ही पियानो बार पर पानी 7 अलग-अलग धाराओं से गिरेगा जो एक मधुर संगीत पैदा करेगा। यहां गौर करने वाली बात है कि इस परियोजना से 111 मेगावाट बिजली पैदा होगी। 


 

हिमाचल पावर काॅरपोरेशन के अधिकारियों के अनुसार सावड़ा कुड्डु परियोजना पूरी तरह से तैयार है और उम्मीद की जा रही है कि मार्च 2019 तक इसे चालू कर दिया जाएगा। 

 

Todays Beets: