Monday, June 25, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

सावड़ा कुड्डु परियोजना बिजली पैदा करने के साथ सैलानियों को भी लुभाएगा, मार्च 2019 में होगा शुरू

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सावड़ा कुड्डु परियोजना बिजली पैदा करने के साथ सैलानियों को भी लुभाएगा, मार्च 2019 में होगा शुरू

शिमला। बिजली परियोजनाओं से बिजली उत्पादन की खबरें तो आम हैं लेकिन ऐसा कहा जाए कि परियोजना के जरिए बिजली उत्पादन के साथ संगीत की धुन भी सुनाई देगी तो कोई भी चौंक जाएगा। हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में हाटकोटी के पास बहने वाली पब्बर नदी पर देश का पहला ऐसा बांध बनाया गया है जिसमें पियानो की तरह ‘की-वेयर’ तैयार की गई हैं। इससे बिजली तैयार करने के साथ संगीत से वातावरण गुंजायमान होगा। 

गौरतलब है कि शिमला से करीब 100 किलोमीटर दूर प्रसिद्ध शक्तिपीठ हाटकोटी के साथ बहने वाली पब्बर नदी पर बनाए गए सावड़ा कुड्डू परियोजना के बांध के ऊपर पियानो बार का निर्माण किया गया है। इससे सात धाराएं निकलेंगी जो झरने का रूप लेकर मधुर संगीत पैदा करेंगी। बता दें कि इस परियोजना को हिमाचल प्रदेश पावर काॅरपोरेशन ने तैयार किया है। खबरों के अनुसार यह परियोजना पूरी तरह से तैयार है और इसे कुछ महीनों में पानी से भरकर चालू कर दिया जाएगा। 

ये भी पढ़ें - ‘राज्यमंत्री’ भय्यूजी महाराज ने खुद को गोली मार खुदकुशी की

यहां बता दें कि धार्मिक पर्यटन के तौर पर देश व विदेश से कई पर्यटक हाटकोटी पहुंचते हैं। ऐसे में हिमाचल सरकार का मकसद इस परियोजना के जरिए पर्यटकों को आकर्षित करने की भी है। बताया जा रहा है कि इस पियानो बार के ऊपर करीब 100 फुट की ऊंचाई से पानी गिरेगा जिससे एक अद्भुत संगीत उत्पन्न करेगा। गौर करने वाली बात है कि यहां बिजली पैदा करने के लिए 3 मशीनों को लगाया गया है। इसके साथ ही पियानो बार पर पानी 7 अलग-अलग धाराओं से गिरेगा जो एक मधुर संगीत पैदा करेगा। यहां गौर करने वाली बात है कि इस परियोजना से 111 मेगावाट बिजली पैदा होगी। 


 

हिमाचल पावर काॅरपोरेशन के अधिकारियों के अनुसार सावड़ा कुड्डु परियोजना पूरी तरह से तैयार है और उम्मीद की जा रही है कि मार्च 2019 तक इसे चालू कर दिया जाएगा। 

 

Todays Beets: