Thursday, November 22, 2018

Breaking News

   ऑस्ट्रेलिया के PM मॉरिशन बोले- भारत दुनिया की सबसे तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था     ||   पश्चिम बंगालः सिलीगुड़ी की तीस्ता नहर में 4 जिंदा मोर्टार सेल बरामद     ||   मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः कोर्ट ने मंजू वर्मा को 1 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा     ||   करतारपुर साहिब कॉरिडोर को मंजूरी देने पर CM अमरिंदर ने PM मोदी को कहा- शुक्रिया     ||   करतारपुर कॉरिडोर पर मोदी सरकार की मंजूरी के बाद बोला PAK- जल्द देंगे गुड न्यूज     ||   चौदह दिनों की न्यायिक हिरासत में बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा, कोर्ट में किया था सरेंडर     ||   MP में चुनाव प्रचार के दौरान शख्स ने BJP कैंडिडेट को पहनाई जूतों की माला     ||   बेंगलुरु: गन्ना किसानों के साथ सीएम कुमारस्वामी की बैठक     ||   US में ट्रंप को कोर्ट से झटका, अवैध प्रवासियों को शरण देने से नहीं कर सकते इनकार    ||   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||

फिर छलका शिवपाल यादव का दर्द, कहा- अगर अखिलेश ने बड़ों की बात मानी होती तो राज्य के मुख्यमंत्री होते

अंग्वाल न्यूज डेस्क
फिर छलका शिवपाल यादव का दर्द, कहा- अगर अखिलेश ने बड़ों की बात मानी होती तो राज्य के मुख्यमंत्री होते

लखनऊ। समाजवादी पार्टी में पारिवारिक मतभेद अभी भी पूरी तरह से खत्म नहीं हुए हैं। इस बात का अंदाजा शिवपाल सिंह यादव के इस बयान से लगाया जा सकता है कि जिसमें उन्होंने कहा कि ‘‘अगर अखिलेश ने बड़ों की बात मानी होती तो वे आज राज्य के मुख्यमंत्री होते’’। उन्हांेने कहा कि उत्तरप्रदेश के साथ ही बिहार में भी उनकी सरकार बनी होती। शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि उन्होंने अखिलेश और उनके भाई धर्मेंद्र यादव को गोद में खेलाया है और उनकी शादी भी कराई लेकिन आज के युवा अब बड़ों की बात नहीं सुनते हैं। 

गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश में चुनाव के दौरान मुलायम सिंह यादव और उनके परिवार की अंदरूनी कलह खुलकर सामने आ गई थी। उन्होंने कहा, ‘‘अगर बड़ों की बात मानी गई होती तो आज प्रदेश में सपा की सरकार होती और अखिलेश मुख्यमंत्री होते और बिहार में भी सपा सरकार बनी होती’’। शिवपाल सिंह ने पार्टी के सभी पदाधिकारियों से एकजुट रहें और लोगों को भी एकजुट रहें। 


ये भी पढ़ें - दिल्ली के व्यापारियों को मिलेगी सीलिंग से निजात, मास्टर प्लान 2021 में संशोधन पर मंत्रालय ने ...

आपको बता दें कि बसपा के साथ किए जा रहे गठबंधन पर उन्होंने कुछ भी बोलने से इंकार करते हुए कहा कि वह राष्ट्रीय अध्यक्ष की सूझबूझ पर कोई सवाल नहीं उठाना चाहते हैं। वे समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता हैं और पार्टी को एकजुट रखने के लिए काम करते रहेंगे। 

Todays Beets: