Monday, July 16, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

फिर छलका शिवपाल यादव का दर्द, कहा- अगर अखिलेश ने बड़ों की बात मानी होती तो राज्य के मुख्यमंत्री होते

अंग्वाल न्यूज डेस्क
फिर छलका शिवपाल यादव का दर्द, कहा- अगर अखिलेश ने बड़ों की बात मानी होती तो राज्य के मुख्यमंत्री होते

लखनऊ। समाजवादी पार्टी में पारिवारिक मतभेद अभी भी पूरी तरह से खत्म नहीं हुए हैं। इस बात का अंदाजा शिवपाल सिंह यादव के इस बयान से लगाया जा सकता है कि जिसमें उन्होंने कहा कि ‘‘अगर अखिलेश ने बड़ों की बात मानी होती तो वे आज राज्य के मुख्यमंत्री होते’’। उन्हांेने कहा कि उत्तरप्रदेश के साथ ही बिहार में भी उनकी सरकार बनी होती। शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि उन्होंने अखिलेश और उनके भाई धर्मेंद्र यादव को गोद में खेलाया है और उनकी शादी भी कराई लेकिन आज के युवा अब बड़ों की बात नहीं सुनते हैं। 

गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश में चुनाव के दौरान मुलायम सिंह यादव और उनके परिवार की अंदरूनी कलह खुलकर सामने आ गई थी। उन्होंने कहा, ‘‘अगर बड़ों की बात मानी गई होती तो आज प्रदेश में सपा की सरकार होती और अखिलेश मुख्यमंत्री होते और बिहार में भी सपा सरकार बनी होती’’। शिवपाल सिंह ने पार्टी के सभी पदाधिकारियों से एकजुट रहें और लोगों को भी एकजुट रहें। 


ये भी पढ़ें - दिल्ली के व्यापारियों को मिलेगी सीलिंग से निजात, मास्टर प्लान 2021 में संशोधन पर मंत्रालय ने ...

आपको बता दें कि बसपा के साथ किए जा रहे गठबंधन पर उन्होंने कुछ भी बोलने से इंकार करते हुए कहा कि वह राष्ट्रीय अध्यक्ष की सूझबूझ पर कोई सवाल नहीं उठाना चाहते हैं। वे समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता हैं और पार्टी को एकजुट रखने के लिए काम करते रहेंगे। 

Todays Beets: