Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

फिर छलका शिवपाल यादव का दर्द, कहा- अगर अखिलेश ने बड़ों की बात मानी होती तो राज्य के मुख्यमंत्री होते

अंग्वाल न्यूज डेस्क
फिर छलका शिवपाल यादव का दर्द, कहा- अगर अखिलेश ने बड़ों की बात मानी होती तो राज्य के मुख्यमंत्री होते

लखनऊ। समाजवादी पार्टी में पारिवारिक मतभेद अभी भी पूरी तरह से खत्म नहीं हुए हैं। इस बात का अंदाजा शिवपाल सिंह यादव के इस बयान से लगाया जा सकता है कि जिसमें उन्होंने कहा कि ‘‘अगर अखिलेश ने बड़ों की बात मानी होती तो वे आज राज्य के मुख्यमंत्री होते’’। उन्हांेने कहा कि उत्तरप्रदेश के साथ ही बिहार में भी उनकी सरकार बनी होती। शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि उन्होंने अखिलेश और उनके भाई धर्मेंद्र यादव को गोद में खेलाया है और उनकी शादी भी कराई लेकिन आज के युवा अब बड़ों की बात नहीं सुनते हैं। 

गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश में चुनाव के दौरान मुलायम सिंह यादव और उनके परिवार की अंदरूनी कलह खुलकर सामने आ गई थी। उन्होंने कहा, ‘‘अगर बड़ों की बात मानी गई होती तो आज प्रदेश में सपा की सरकार होती और अखिलेश मुख्यमंत्री होते और बिहार में भी सपा सरकार बनी होती’’। शिवपाल सिंह ने पार्टी के सभी पदाधिकारियों से एकजुट रहें और लोगों को भी एकजुट रहें। 


ये भी पढ़ें - दिल्ली के व्यापारियों को मिलेगी सीलिंग से निजात, मास्टर प्लान 2021 में संशोधन पर मंत्रालय ने ...

आपको बता दें कि बसपा के साथ किए जा रहे गठबंधन पर उन्होंने कुछ भी बोलने से इंकार करते हुए कहा कि वह राष्ट्रीय अध्यक्ष की सूझबूझ पर कोई सवाल नहीं उठाना चाहते हैं। वे समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता हैं और पार्टी को एकजुट रखने के लिए काम करते रहेंगे। 

Todays Beets: