Friday, March 22, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

लोगों को सुरक्षित सफर दे नहीं पा रहे, बुलेट ट्रेन लाने की बात करते हैं- शिवसेना

अंग्वाल संवाददाता
लोगों को सुरक्षित सफर दे नहीं पा रहे, बुलेट ट्रेन लाने की बात करते हैं- शिवसेना

मुंबई । परेल स्टेशन के निकट फुटओवर ब्रिज पर भगदड़ में 25 लोगों की मौत हो गई है। इस मामले में रेलव की ओर से भारी लापरवाही उजागर हुई है, जिस तरह से कई बार इस फुटओवरब्रिज पर हादसे की आशंका लोग जताते रहे हैं, उसे देखते हुए एनडीए की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने राज्य सरकार पर निशाना साधा है। शिवसेना विधायक अजय चौधरी ने कहा कि भाजपा सरकार  देश के रेलवे स्टेशनों पर लोगों को मूलभूत सुविधाएं मुहैया करवाने में तो विफल हो रहीहै और बात करती है भारत में बुलेट ट्रेन लाने की। इससे बेहतर तो यह होगा कि रेलवे में व्यापक सुधार करते हुए लोगों को सुरक्षित रेल के सफर का भरोसा दिलाएं। 

बता दें कि बारिश के चलते फुटओवर ब्रिज पर लोगों की भीड़ बढ़ने के दौरान एकाएक एक व्यक्ति का पैर फिसल गया। इस दौरान फुटओवर ब्रिज की रैलिंग टूट गई, जिसके बाद कुछ लोग नीचे गिर गए। इसके बाद ब्रिज पर भगदड़ मच गई, जिसमें अभी तक 25 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 40 लोग घायल बताए जा रहे हैं। इस पूरे मामले पर एक बार फिर शिवसेना ने राज्य समेत केंद्र की भाजपा सरकार पर निशाना साधा है। 


शिवसेना विधायक अजय चौधरी ने कहा कि आखिर भाजपा कैसे देश में बुलेट ट्रेन के सपने देख सकती है, जबकि लोगों को स्टेशनों पर बुनियादी सुविधाएं भी मुहैया नहीं हो रही है। लोग रेल के सफर को असुरिक्षत मान रहे हैं। पिछले कुछ सालों में रेल हादसों में भारी इजाफा हुआ है। ऐसे में मोदी सरकार के लिए बेहतर होगा कि वह बुलेट ट्रेन का सपना छोड़ लोगों को सुरक्षित सफर का भरोसा दिलाएं। 

Todays Beets: