Tuesday, November 21, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

लोगों को सुरक्षित सफर दे नहीं पा रहे, बुलेट ट्रेन लाने की बात करते हैं- शिवसेना

अंग्वाल संवाददाता
लोगों को सुरक्षित सफर दे नहीं पा रहे, बुलेट ट्रेन लाने की बात करते हैं- शिवसेना

मुंबई । परेल स्टेशन के निकट फुटओवर ब्रिज पर भगदड़ में 25 लोगों की मौत हो गई है। इस मामले में रेलव की ओर से भारी लापरवाही उजागर हुई है, जिस तरह से कई बार इस फुटओवरब्रिज पर हादसे की आशंका लोग जताते रहे हैं, उसे देखते हुए एनडीए की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने राज्य सरकार पर निशाना साधा है। शिवसेना विधायक अजय चौधरी ने कहा कि भाजपा सरकार  देश के रेलवे स्टेशनों पर लोगों को मूलभूत सुविधाएं मुहैया करवाने में तो विफल हो रहीहै और बात करती है भारत में बुलेट ट्रेन लाने की। इससे बेहतर तो यह होगा कि रेलवे में व्यापक सुधार करते हुए लोगों को सुरक्षित रेल के सफर का भरोसा दिलाएं। 

बता दें कि बारिश के चलते फुटओवर ब्रिज पर लोगों की भीड़ बढ़ने के दौरान एकाएक एक व्यक्ति का पैर फिसल गया। इस दौरान फुटओवर ब्रिज की रैलिंग टूट गई, जिसके बाद कुछ लोग नीचे गिर गए। इसके बाद ब्रिज पर भगदड़ मच गई, जिसमें अभी तक 25 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 40 लोग घायल बताए जा रहे हैं। इस पूरे मामले पर एक बार फिर शिवसेना ने राज्य समेत केंद्र की भाजपा सरकार पर निशाना साधा है। 


शिवसेना विधायक अजय चौधरी ने कहा कि आखिर भाजपा कैसे देश में बुलेट ट्रेन के सपने देख सकती है, जबकि लोगों को स्टेशनों पर बुनियादी सुविधाएं भी मुहैया नहीं हो रही है। लोग रेल के सफर को असुरिक्षत मान रहे हैं। पिछले कुछ सालों में रेल हादसों में भारी इजाफा हुआ है। ऐसे में मोदी सरकार के लिए बेहतर होगा कि वह बुलेट ट्रेन का सपना छोड़ लोगों को सुरक्षित सफर का भरोसा दिलाएं। 

Todays Beets: