Sunday, January 21, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

भोपाल सेंट्रल जेल में कैदियों के बच्चों के चेहरों पर सील लगाने का मामला गर्माया, जांच के आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भोपाल सेंट्रल जेल में कैदियों के बच्चों के चेहरों पर सील लगाने का मामला गर्माया, जांच के आदेश

भोपाल।

भोपाल सेंट्रल जेल में एक शर्मनाक मामला सामने आया है। रक्षाबंधन के दिन कैदियों से मिलने पहुंचे उनके बच्चां के चेहरों पर जेल प्रशासन ने मुहर लगा दी गई। इन बच्चों की तस्वीर सामने आने पर मामले ने तूल पकड़ लिया और मानवाधिकार आयोग के नोटिस देने के बाद सरकार सक्रिय हो गई है। अब मध्यप्रदेश की जेल मंत्री कुसुम सिंह महदेले ने मामले में जांच के आदेश दे दिए हैं।

दरअसल, जेल में कैदियों से मिलने से पहले पहचान चिन्ह के लिए मुलाकातियों के हाथ में मुहर लगाई जाती है। ताकि भीड़ का फायदा उठाकर कोई कैदी बाहर ना निकल जाए, लेकिन रक्षाबंधन के दिन जब परिजन कैदियों से मिलने पहुंचे तो उनके साथ अमानवीय कृत्य किया गया। जेल कर्मचारियों ने पहचान के लिए बच्चों और किशोरियों के हाथ की बजाए उनके चेहरे पर मुहर लगा दी। इसे लेकर परिजनों में बेहद रोष देखा गया। घटना के सामने आने के बाद जेल अधिकारी ने भी इसे अनुचित करार दिया।

जेल मंत्री कुसुम महदेले ने कहा कि जांच में दोषी पाए जाने वालों पर उचित कार्रवाई की जाएगी। वहीं जेल मुख्यालय ने इस मामले में सेंट्रल जेल भोपाल के अधीक्षक दिनेश नरगावे से जबाव मांगा है। जेल अधीक्षक का कहना है कि अचानक बारिश की वजह से भीड़ अंदर आने लगी तो जल्दबाजी में मुहर चेहरे पर लग गई होगी। उन्होंने कहा कि हो सकता है बुर्के की वजह से मुहर चेहरे पर लग गई हो। हालांकि उन्होंने माना कि चूक हुई है और पूरी घटना की गंभीरता से पड़ताल की जा रही है।


बाल अधिकारों का उल्लंघन

मध्यप्रदेश मानवाधिकार आयोग ने इस मामले को बाल अधिकारों का उल्लंघन बताया। प्रदेश मानवाधिकार आयोग के जनसंपर्क अधिकारी एलआर सिसौदिया ने कहा कि मानवाधिकार आयोग ने एक किशोरी सहित दो बच्चों के चेहरे पर लगाई गई मुहर पर संज्ञान लिया है और जेल महानिदेशक को इस संबंध में नोटिस जारी करके उनसे सात दिन के अंदर जवाब मांगा है। सिसोदिया ने बताया कि मानवाधिकार आयोग का मानना है कि बच्चे एवं लड़की के चेहरे पर इस तरह जेल प्रशासन द्वारा मुहर लगाना मानवाधिकारों और बाल अधिकारों को उल्लंघन है।

 

 

Todays Beets: