Saturday, March 23, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

केंदुपत्ता बीनकर जीवन यापन करने वाली लड़कियां खेलेंगी एशियन साॅफ्टबाॅल चैंपियनशिप, पीएम से मिलकर जाएंगी फिलीपींस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केंदुपत्ता बीनकर जीवन यापन करने वाली लड़कियां खेलेंगी एशियन साॅफ्टबाॅल चैंपियनशिप, पीएम से मिलकर जाएंगी फिलीपींस

बीजापुर। छत्तीसगढ़ सरकार की प्रदेश के बच्चों को माओवादियों की गिरफ्त में आने से बचाने के लिए शुरू की गई मुहिम रंग लाती नजर आ रही है। बच्चों की शारीरिक और मानसिक विकास के लिए खोली गई स्पोर्टस एकेडमी अब खिलाड़ियों की नई पौध तैयार कर रही है। यहां गंगालूर गांव की दो लड़कियां भारत की तरफ से एशियन जूनियर साॅफ्टबाॅल चैंपियनशिप खेलने के लिए फिलीपींस के लिए रवाना होने वाली हैं। बता दें कि कभी केंदुपत्ता बीनकर और लकड़ियां काटकर अपने परिवार का पालन करने वाली ये दोनों लड़कियां शनिवार को प्रधानमंत्री से मुलाकात करेंगी।

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ के गंगालूर गांव की ओर जाने वाली सड़क को खूनी सड़क भी कहा जाता है क्योंकि माओवादियों ने इस रास्ते पर एक साथ 42 सुरक्षा अधिकारियों को मौत के घाट उतार दिया था। अब प्रदेश की रमण सिंह सरकार द्वारा खोली गई स्पोर्टस एकेडमी में पिछले 1 साल से तैयारी करने वाली 13 साल की अरुणा पुनेम और 14 साल की सुनीता हमला, एशियन जूनियर सॉफ्टबॉल चैंपियनशिप में हिस्सा लेने के लिए फिलिपींस के लिए रवाना होंगी। 


अरुणा पुनेम ने कहा कि वह पहले तेंदू पता को इकट्ठा किया करती थी। ऐसा वह परिवार की आय में अपना योगदान देने के लिए किया करती थीं। दोनों लड़कियों के माता-पिता आज भी यही काम करते हैं। दोनों ने स्पोर्टस एकेडमी खोलने के लिए सरकार का धन्यवाद दिया है। बता दें कि शनिवार को अंबेडकर जयंति के अवसर पर बीजापुर में कई परियोजनाओं की शुरुआत करने वाले हैं। 9वीं कक्षा में पढ़ने वाली हमला ने बताया कि वह पिछले एक साल से सॉफ्टबॉल खेलना सीख रही हैं। मैं भारत का राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में प्रतिनिधित्व करना चाहती हूं।

Todays Beets: