Saturday, November 17, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

यूपी में 68 हजार शिक्षकों की नियुक्ति में हुआ गड़बड़झाला, सचिव, परीक्षा नियामक प्राधिकारी निलंबित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी में 68 हजार शिक्षकों की नियुक्ति में हुआ गड़बड़झाला, सचिव, परीक्षा नियामक प्राधिकारी निलंबित

लखनऊ। उत्तरप्रदेश सरकार ने बेसिक शिक्षा विभाग में करीब 68 हजार से ज्यादा शिक्षकों की भर्ती में हुई गड़बड़ी के मामले में सख्त कदम उठाया है। दोषी पाए जाने पर सचिव, परीक्षा नियामक प्राधिकारी, सुत्ता सिंह को निलंबित कर दिया गया है। इस मामले की जांच के लिए आईएएस अधिकारी संजय आर भूसरेड्डी की अध्यक्षता में जांच कमेटी का गठन कर दिया गया है। इसके अलावा रूबी सिंह को बेसिक शिक्षा परिषद की नई सचिव नियुक्त किया गया है।

गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश के बेसिक शिक्षा विभाग में 68,500 पदों पर सहायक अध्यापक के पद के लिए हुई लिखित परीक्षा में 41,556 उम्मीदवार चयनित हुए थे। शिक्षक भर्ती के लिए घोषित किए गए परिणाम में महज 2, 5 और 7 अंक पाने वालों को भी काउंसलिंग के बाद सचिव बेसिक शिक्षा परिषद व एनआईसी ने जिले आवंटित कर दिए थे।


ये भी पढ़ें - मणिपुर के सीएम को जान से मारने की धमकी देने वाला चढ़ा दिल्ली पुलिस के हत्थे, 2 लाख रुपये का था इनाम

यहां बता दें कि इस बात की खबर जब दूसरे उम्मीदवारों को लगी तो उन्होंने इसकी जांच कराने की मांग की। बेसिक शिक्षा विभाग ने इस जांच में अपने अधिकारियों के फंसने के डर से 14 जिलों के जिलाधिकारियों को पत्र भेजकर नियुक्ति पत्र जारी करने पर रोक लगा दी थी। शिक्षकों की नियुक्ति में गड़बड़ी को देखते हुए सचिव, परीक्षा नियामक प्राधिकारी, सुत्ता सिंह को निलंबित कर दिया गया है। 

Todays Beets: