Tuesday, March 26, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

यूपी में 68 हजार शिक्षकों की नियुक्ति में हुआ गड़बड़झाला, सचिव, परीक्षा नियामक प्राधिकारी निलंबित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी में 68 हजार शिक्षकों की नियुक्ति में हुआ गड़बड़झाला, सचिव, परीक्षा नियामक प्राधिकारी निलंबित

लखनऊ। उत्तरप्रदेश सरकार ने बेसिक शिक्षा विभाग में करीब 68 हजार से ज्यादा शिक्षकों की भर्ती में हुई गड़बड़ी के मामले में सख्त कदम उठाया है। दोषी पाए जाने पर सचिव, परीक्षा नियामक प्राधिकारी, सुत्ता सिंह को निलंबित कर दिया गया है। इस मामले की जांच के लिए आईएएस अधिकारी संजय आर भूसरेड्डी की अध्यक्षता में जांच कमेटी का गठन कर दिया गया है। इसके अलावा रूबी सिंह को बेसिक शिक्षा परिषद की नई सचिव नियुक्त किया गया है।

गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश के बेसिक शिक्षा विभाग में 68,500 पदों पर सहायक अध्यापक के पद के लिए हुई लिखित परीक्षा में 41,556 उम्मीदवार चयनित हुए थे। शिक्षक भर्ती के लिए घोषित किए गए परिणाम में महज 2, 5 और 7 अंक पाने वालों को भी काउंसलिंग के बाद सचिव बेसिक शिक्षा परिषद व एनआईसी ने जिले आवंटित कर दिए थे।


ये भी पढ़ें - मणिपुर के सीएम को जान से मारने की धमकी देने वाला चढ़ा दिल्ली पुलिस के हत्थे, 2 लाख रुपये का था इनाम

यहां बता दें कि इस बात की खबर जब दूसरे उम्मीदवारों को लगी तो उन्होंने इसकी जांच कराने की मांग की। बेसिक शिक्षा विभाग ने इस जांच में अपने अधिकारियों के फंसने के डर से 14 जिलों के जिलाधिकारियों को पत्र भेजकर नियुक्ति पत्र जारी करने पर रोक लगा दी थी। शिक्षकों की नियुक्ति में गड़बड़ी को देखते हुए सचिव, परीक्षा नियामक प्राधिकारी, सुत्ता सिंह को निलंबित कर दिया गया है। 

Todays Beets: